अगर आपने 11 जनवरी से कोई रिजर्वेशन की टिकट करवा रखी है तो यह जानकारी आपके लिए काफी चौंकाने वाली होगी। भारतीय रेलवे में कोरोना के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए यह फैसला किया है कि कोरोना के चलते कुछ ही लोग अब ट्रेनों में सफर कर पाएंगे क्या आप भी उनमें शामिल है आइए बताते हैं…

दोस्तों भारतीय रेल के दक्षिणी जोन अर्थात दक्षिणी रेलवे ने कोरोना के मामलों को देखते हुए यह फैसला लिया है कि 10 जनवरी के बाद से वे ही लोग ट्रेनों में सफर कर पाएंगे जिन्होंने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवा ली है। आपको ट्रेन में सफर करने के लिए दोनों डोज का वैक्सीन सर्टिफिकेट भी होना चाहिए अगर आपके पास यह नहीं है तो आप संकट में गिर सकते हैं। इसके साथ ही उपनगरीय ट्रेन सेवा में 50 फीसदी की क्षमता के साथ ही ट्रेनें चलाई जाएंगी। अगर कोई व्यक्ति सर्टिफिकेट नहीं दिखा पाता है तो उसे सफर की अनुमति नहीं दी जाएगी। यह सारी पाबंदियां कोरोना के चलते लगाई गई हैं।

लगेगा जुर्माना : अगर आप बिना वैक्सीन के ट्रेन में सफर करते हुए पाए जाते हैं तो आपको जुर्माना देना होगा। दक्षिणी रेलवे द्वारा जारी किए गए गाइडलाइन में बताया गया है कि रेलवे परिसर में अगर कोई व्यक्ति बिना मास्क के पाया जाता है तो उसको भी ₹500 का जुर्माना अदा करना पड़ेगा। यह सारे नियम अभी चेन्नई के लोगों पर ही लागू है क्योंकि सिर्फ दक्षिणी रेलवे ने यह गाइडलाइन जारी की है। आपको बता दें कि भारत में ओमिक्रॉन के मामले बढ़ रहे है तो पहले जो जुर्माना 100 रुपए लगता था अब उसे 500 रुपए कर दिया गया है। पश्चिम रेलवे के रतलाम मंडल की तरफ से कोरोना के नए मामले आने के बाद वहा भी नई गाइडलाइन जारी की गई है।