प्राचीन मिस्र देश में राजा फरोह के स्वास्थ्य को सदैव संतुलित बनाए रखने के लिए एक कथित धार्मिक क्रिया का प्रयोग किया जाता था।

किंतु, समय – समय पर राजा फारोह को पेट के रोग या समस्याओं से पाला पड़ता या कभी जरूरत से ज्यादा खाना खा लेता तब, वह अपने मलद्वार की जांच के लिए गुदा विशेषज्ञ को बुलवाया करता था जिसका नाम proctologist था।

इस गुदा विशेषज्ञ का कार्य फारोह के गुदा द्वार के मस्सों या बवासीर की समस्या से राहत दिलाने और साथ ही पुराने अपचित मल से भरी हुई उसकी आंतों को खाली करने का था, जिससे उनके राजा फरोह का स्वास्थ्य एवम् पाचन तंत्र दुरुस्त रहे।

Also Read: Bihar News : गंगा पाथ-वे का पहला चरण पूरा, मिनटों में तय होगा दीघा से गांधी मैदान का रास्ता

इस क्रिया के लिए, वह गुदा रोग विशेषज्ञ राजा फरोह के गुदा मार्ग में सोने की बनी खोखली नली या छड़ सरका देता और पश्चात, हल्का गर्म पानी नली के सहारे आंतों में भर देता था, जिससे तुरंत उसकी आंतों का अपचित मल बाहर निकल जाता और राजा फरोह को इससे बहुत राहत मिलती।

प्राचीन मिस्र देश में पेट की सभी समस्याओं में पेट साफ़ करने वाली यह क्रिया प्रसिद्ध थी, हालांकि सिर्फ राजा के लिए ही सोने के खोखले छड़नुमा ओजारों का प्रयोग किया जाता था, शेष देश के देशवासी एक साधारण धातु की खोखली नली द्वारा इस क्रिया का प्रयोग करती थी।

Leave a comment

Your email address will not be published.