बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी ने 4 दिसंबर को एक घोषणा करते हुए फुटपाथ और पुल के निचे रहने वाले वालो को खुश कर दिया। सीएम ने बोला कि ऐसे आश्रयहीन लोग जो फुटपाथ और पूल के निचे रह रहे है , सरकार उन लोगो के लिए अब बहुमंजिली इमारतों का निर्माण करवाएगी। और सरकार इस काम में देरी नहीं करेगी , इसके लिए जमीन को चुन लिया गया है और अब उन्हें खरीद कर जल्द ही काम शुरू कर दिया जायेगा। पटना स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट एवं नगर विकास विभाग कि विभिन्न योजनाओ के उद्घाटन और शिलान्यास समारोह में शनिवार को नीतीश कुमार ने ये एलान किया था। उन्होंने पटना के अलावा तीन और स्मार्ट सिटी बनवाने के लिए कहा है। ये तीन शहर क्रमशः मुजफ्फरपुर , बिहारशरीफ और भागलपुर है।


नीतीश कुमार ने इन लोगो के लिए चिंता जताते हुए कहा कि ऐसी इन लोगो को बाहर रहना पड़ता है , ये सही नहीं है। इसलिए सरकार अब इनके लिए रहने कि व्यवस्था करेगी। सरकार इनकी हर तरह से सहायता करेगी। ये कहकर नीतीश कुमार ने अधिकारियो को ये आदेश दिए कि जहाँ जहाँ जरुरत है इनके लिए वहा वहा बहुमंजिली इमारते बना के दे दीजिये। हालाँकि ऐसे वादे इन्होने पहले भी किये थे , लेकिन कुछ ज्यादा खास हो नहीं पाया। एक बिल्डिगं बन भी रही थी लेकिन उसका काम भी बीच में ही बंद हो गया।
स्मार्ट सिटी की योजनाओं में खर्च होने वाली राशि का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कम पैसे से स्मार्ट सिटी नहीं बन सकता। जितने पैसे की जरूरत है वह खर्च करिए। मुख्यमंत्री ने राशि के संदर्भ में यह भी कि विगत दो वर्षों से कोरोना की वजह से उसके बचाव आदि पर राज्य व केंद्र सरकार का काफी खर्च हो रहा है। पैसे की कमी होती है इससे विलंब भी होता है। पर सरकार को जो करना है वह करेगी। विकास के काम को निश्चित रूप से आगे बढ़ाएंगे। राज्य में कोरोना से बचाव को ले हम एक-एक काम कर रहे हैैं। लोगों का सतर्क रहना चाहिए।


बहुत पैसे लगेंगे :-
स्मार्ट सिटी बनाने के लिए कितना क्या खर्चा लगेगा इस पर बात करते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अगर स्मार्ट सिटी बनानी है तो पैसे तो लगेंगे ही , तो जहाँ जितने पैसे चाहिए है वो हमें लगाने ही है। काम में हो रही देरी पर मुख्यमंत्री ने बोला कि कोरोना के चक्कर में सब कुछ बिगड़ गया है , सारा धन उधर लग रहा था और बहुत खर्चा हो रहा था। पैसे न हो तो काम कैसे होगा , इसलिए देरी हो जाती है। लेकिन अब हम राज्य के विकास के लिए जरूर काम करेंगे , और कोरोना से भी निपट लेंगे। इसके लिए हमें कोरोना से अपना ध्यान रखना होगा।
स्मार्ट नाम नहीं काम होगा :-
नीतीश कुमार जी ने कहा कि हमें स्मार्ट शहर बनाने है तो वो केवल दिखावे के लिए नहीं होने चाहिए। उनमे काम भी एक स्मार्ट सिटी जैसे होने चाहिए। इसके लिए मुख्यमंत्री ने सभी अधिकारियो को काम सही ढंग से और जल्द से जल्द करने के लिए कहा है। पटना में काम शुरू होने में देरी हो गयी लेकिन अब बहुत अच्छा लग रहा है कि काम शुरू हो गया। सूबे के 258 नगर निकायों के बारे में बात करते हुए वे बोले कि इनकी सफाई को लेकर बात हो रही है और वृद्धाश्रम का काम भी शुरू होने ही वाला है इसके लिए एजेंसी से बात कर ली गयी है।