पटना के इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान ( Patna IGIMS) में जल्द ही रोबोट सर्जरी करते नजर आएंगे। अस्पताल में जल्द ही रोबोटिक सर्जरी की सुविधा उपलब्ध हो जाएगी। इस बात की जानकारी IGIMS के निदेशक डॉ एनआर बिस्वास ने दी है।

उन्होंने कहा कि अस्पताल में रोबोटिक सर्जरी के लिए एक अलग ऑपरेशन थियेटर विकसित किया जा रहा है। शनिवार को ‘वजन घटाने में रोबोटिक सर्जरी के रोल’ पर एक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए उन्होंने ये बातें कही हैं। रोबोटिक सर्जरी के लिए डॉक्टरों और कर्मियों को दी जाएगी ट्रेनिंगIGIMS के निदेशक डॉ. एनआर बिस्वास और सर्जिकल गैस्ट्रोएंटरोलॉजी विभाग के प्रमुख, डॉ मनीष मंडल ने कहा कि अस्पताल में 6 ऑपरेशन थिएटर तैयार किए जा रहे हैं।

इसमें से एक को रोबोटिक सर्जरी के निर्देशों के अनुसार डिजाइन किया जा रहा। यह न्यूरोसर्जरी, बाल रोग और गैस्ट्रोएंटरोलॉजी जैसे सभी विभागों के लिए उपलब्ध होगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसी भी सरकारी अस्पताल में रोबोटिक सर्जरी का पहला प्रशिक्षण कुछ महीनों के भीतर डॉक्टरों और कर्मचारियों को दिया जाएगा।

राष्ट्रीय कार्यकारिणी के आखिरी दिन तैयार होगा आगे का रोडमैप रोबोटिक सर्जरी पर डॉक्टरों ने क्या कहा…NYU लैंगोन मेडिकल सेंटर, यूएसए के डॉ शारिक नज़ीर ने कहा कि रोबोटिक सर्जरी की मदद से स्लिम गैस्ट्रेक्टोमी कम समय में वजन कम करने के लिए बहुत प्रभावी है। यह लोगों को तेजी से ठीक होने और ब्लड प्रेशर-ब्लड शुगर जैसी अन्य समस्याओं को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

मोटापे के मुद्दे पर चर्चा करते हुए, डॉ मनीष मंडल ने कहा कि बिहार में वजन बढ़ना बड़ी स्वास्थ्य समस्या है। इससे सभी उम्र के 25 से 30 फीसदी लोग पीड़ित हैं। उन्होंने बताया कि सबसे ज्यादा चिंता की बात यह है कि स्कूली बच्चे भी इसके प्रतिकूल प्रभावों से बेफिक्र होकर तेजी से वजन बढ़ा रहे हैं। मोटापा ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर, अस्थमा, थायरॉइड और कई अन्य बीमारियों की समस्या का कारण बनता है। जंक फूड और शारीरिक व्यायाम की कमी खास तौर से शहरी लोगों में मोटापे के मुख्य कारण हैं।

Leave a comment

Cancel reply

Your email address will not be published.