दोस्तों बिहार सरकार बिहार को आगे ले जाने के लिए काफी काम कर रही है और जिस राज्य या देश में सड़के शानदार होती है तो वह जल्दी विकसित होता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए अब बिहार सरकार ने फोरलेन सड़क और छः लेन सड़क का मॉडल तैयार किया है।

 

फोरलेन सड़क राज्य के जिन गांव से गुजरेगी उनका संबंध हाईवे से हो जाएगा और साथ ही इनका सीधा संबंध पटना से हो जाएगा। जिला प्रशासन ने इसकी सूचना और जमीन को अधिग्रहित करने की रिपोर्ट नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) को भेज दी है और जमीन को अधिकृत करने के लिए उनसे संबंधित लोगों को पैसे दे दिए जाएंगे।


इस फोरलेन सड़क का नाम पटना–सासाराम फोरलेन है जो कि कोईलवर से भोजपुर जिले में प्रवेश करेगी तथा उदवंतनगर गढ़हनी और चरपोखरी से होते हुए तरारी के रास्ते आगे निकल जाएगी। इस पूरे काम में 164.747 हेक्टेयर भूमि की जरूरत पड़ेगी जिसकी रिपोर्ट भू अर्जन विभाग ने भेज दी है। आपको बता दें कि बिहार के इस प्रोजेक्ट की लंबाई 130 किलोमीटर की है और इसमें 3500 करोड रुपए का अनुमानित खर्चा आएगा। जिसमें कि सासाराम से आरा तक फोरलेन सड़क का निर्माण होगा तथा आरा से पटना तक छह लेन सड़क का निर्माण प्रस्तावित है।

दोस्तों पूरा जो रूट में है 5 प्रखंडों में बटा हुआ है पहला प्रखंड तरारी है, तरारी प्रखंड के महेशडीह, महादेवपुर, तरारी, डुमरिया ,रेनी, देहरा, गाजोडीह ,सरमाना ,कुरमुरी, मौजा धनगांव, किरतपुर, निर्भया, इटूही, भदसौर, बड़कागांव, अकरोंज जैसे गांव शामिल है। दूसरा प्रखंड चरपोखरी प्रखंड है जिसमें कि सोनबरसा, पटखौली, केशवपुर, जयरामपुर, कोरेगांव, सुंदरनगर, कुसुमी, कुम्हिला , मधुरी, पांडेडीह, सुंदरपुर, जनपाडीह, कोरी गांव आदि शामिल है। तीसरे प्रखंड में गड़हनी प्रखंड आता है इसमें बहरी, धमनिया, बंधवा, पड़रिया, गढ़हनी, रंधोली, करनौल, चांदी, आते है। चौथा प्रखंड उदवंतनगर प्रखंड है इसमें देवरिया, खजूहरा, बकरी, एडोरा, डेम्हा, कसाप, गांव आते है। पांचवा प्रखंड कोईलवर प्रखंड है जिसमें जलपुरा, मानपुर, खंगाव, कुरी, कोसिहान गांव आते है।