बिहार का विभाजन झारखंड के होने से पहले बिहार भी खनिज संपदा के मामले में बिहार को सम्पन राज्य में आता था। झारखंड का विभाजन होने के उपरांत बिहार में खनिज संपदा का भी विभाजन होकर ज्यादा भाग झारखंड में चला गया। मुताबिक जानकारी के हिसाब से पिछले दिनों बिहार में क्रोमियम और पोटैशियम नाम के 4 खनिज ब्लॉक मिले हैं। और जल्द ही इसकी जांच कर खनिजों के खनन की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। और जल्द ने इसके नीलामी भी कर दी जाएगी और इसके बाद इस पर खनन का काम शुरू कर दिया जायेगा जिसे बिहार के लोगो को रोजगार उपलब्ध होगा।

कौन कौन सी जगह पर मिला
बिहार के जिन जगहों पर खनिजों के ये भंडार मिले हैं, उनमें सासाराम-रोहतास में 10 वर्ग किलोमीटर का नड़वाडीह खंड, 8 वर्ग किलोमीटर में टीपा खनिज खंड और शाहपुर में 7 वर्ग किलोमीटर का खंड शामिल है। तीनों के तीनों पोटेशियम के खंड हैं। और औरंगाबाद-गया में क्रोमियम के खंड हैं। और ये 8 वर्ग किलोमीटर का है। केंद्र सरकार ने भी, बिहार सरकार को खनन करने की अनुमति प्रदान कर दी है।