बिहार सरकार द्वारा बिहार में लगातार पर्यटन के विकास के क्षेत्र में कई काम करा रही है। जैसा की आपको पता होगा ही की कुछ समय पहले राजगीर और मंदार पर्वत पर पर्यटन विभाग के द्वारा रोपवे का निर्माण कराया गया था। हालांकि इस रोपवे को पूरे बिहार राज्य के सभी जगहों पर बनाये जाने का पर्यटन विभाग पूरी तरह से प्रयास कर रही है। इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए एक बहुत बड़ी जानकारी मिली है, कि राजगीर के बाद अब बिहार के कई अन्य जिलों की पहाड़ियों पर भी रोपवे का निर्माण किया जा सकता है। जिसके लिए पर्यटन विभाग ने भी अपना कार्य की शुरुवात कर दी है।

बिहार के कौन सी जगहों पर बनेगा रोपवे
मिली खबरों के अनुसार, पर्यटन विभाग ने सुविधाओं के विकास के लिए वैशाली, कैमूर जिले के मुंडेश्वकरी, रोहतासगढ़, गया के साथ-साथ कई अन्य जगहों पर भी विकास का काम कर रही है। इसके साथ इन जगहों पर जल्द ही राजगीर की तर्ज पर एक और शानदार रोपवे का निर्माण जल्द ही शुरू किया जाएगा। इसके लिए पर्यटन विभाग ने अपनी और से तैयारियों की शुरुवात कर दी है।

बिहार के इन ज़िलों में बनाये जाँयगे कन्वेंशन सेंटर
बिहार राज्य के पर्यटन विकास निगम के सचिव संतोष मल्ल के अनुसार वैशाली में बुद्ध सम्यक दर्शन संग्रहालय को 300 करोड़ रुपए की लागत लगा कर बनाया जा रहा है। और इसके साथ गया के प्रेतशिला, मुंडेश्वरी, रोहतास गढ़, वाणावर स्थानों पर रोपवे का काम पहले से ही जारी हो चूका है। और वहीं बोधगया में भव्य अतिथिशाला का भी निर्माण जल्द ही शुरू किया जा रहा है। वही वाल्मीकि नगर में इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर बनाया जा रहा है। साथ ही साथ राजगीर और मंदार पर्वत पर भी रोपवे का कार्य शुरू हो चुका है। इसके अलावा बिहार के राजगीर में जंगल सफारी का उद्घाटन भी किया जा चूका है। बिहार के पर्यटन सचिव ने कहा कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए बौद्ध सर्किट, रामायण सर्किट, सिख सर्किट सहित अन्य सर्किट को भी पर्यटन से जोड़ने की योजना बनायीं जा रही है।