बिहार देश के अंदर ऐतिहासिक दृस्टि से विशेष महत्व रखता है यहां की सांस्कृतिक विरासत अपने आप में एक अलग ही पहचान रखती है हाल ही में यहां पर छठ महापर्व का त्यौहार संपन्न हुआ है इस पर्व पर एक विशिस्ट प्रकार का व्यंजन ठेकुआ का विशेष महत्व होता है बिहार का ठेकुआ दिल्ली में खूब चाव के साथ खाया जाता है हाल में दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित हो रहे अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेले में बिहार का ठेकुआ बहुत देखने को मिल रहा है और दिल्ली के लोग ठेकुआ खरीदने के लिए बहुत बड़ी भीड़ जुट रही है

दिल्ली के प्रगति मैदान में 14 से 27 नवंबर तक अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेले का आयोजन किया जा रहा है यहां बिहार के व्यंजनों और फलों ने काफी धूम मचा रखी है यहां पर मुजफ्फरपुर की लीची, लाख की चूड़ियाँ, और भागलपुर की साड़ी खरीदने के लिए काफी बड़ी तादाद में लोगों की भीड़ जुटी है बिहार के निदेशक रुपेश कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि बिहार से आए कलाकार दिल्ली में उत्कर्ष प्रदर्शन कर रहे है

इस खास मौके पर उनके साथ में उपेंद्र महारथी शिल्प अनुसंधान के निदेशक अशोक कुमार और मेला प्रभारी धर्मेंद्र कुमार सिंह और सह मेला प्रभारी विकास कुमार मौजूद थे इस 40 वे अन्तर्राष्ट्रीय मेले पर बिहार को पार्टनर राज्य का दर्जा दिया गया है और 22 नवंबर को बिहार दिवस समारोह मनाया जायेगा इस कार्यक्रम में बिहार के उद्योग मंत्री समेत कई अधिकारी शामिल होंगे