औरंगाबाद – जयनगर एक्सप्रेस-वे
बिहार जिले के औरंगाबाद के मदनपुर से शुरू होने वाले एक्सप्रेस -वे एयरपोर्ट के पास से होते हुए जीटी रोड तक गयी है। ये एक्सप्रेस -वे जहानाबाद और नालंदा के बॉर्डर से होते हुए बिहार की राजधानी पटना में कच्ची दरगाह तक आएगी, उसके साथ साथ बिदुपुर के बीच बन रहे 6 लेन पुल से चकसिकंदर, महुआ के पूरब से होते हुए ताजपुर तक जाएगी। उसके साथ साथ दरभंगा एयरपोर्ट के पास से होते हुए जयनगर तक जाएगी। यह एक्सप्रेस -वे 271 km लंबी होने के साथ साथ पटना और अन्य 6 जिलों को आपस में जोड़ेगी। इस एक्सप्रेस -वे को पटना के गया और दरभंगा जिले में एयरपोर्ट से जोड़ने की योजना बनाई गयी है।

बक्सर- भागलपुर एक्सप्रेस-वे
बिहार जिले में इस एक्सप्रेस-वे को बक्सर से भागलपुर तक बनाया जायेगा। बक्सर से दिल्ली तक पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का भी निर्माण करवाया जा रहा है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को ही भागलपुर से जोड़ने की योजना बनायीं गयी है। इसकी एक्सप्रेस -वे की लंबाई 350 किलोमीटर होगी। एक्सप्रेस-वे को जुड़ाव गंगा में बने पुलों से भी जोड़ा जाएगा। वही ये एक्सप्रेस -वे को बिहार के जिलों में बक्सर, भागलपुर और राजधानी समेत पटना के साथ साथ इस एक्सप्रेस-वे को बिहार का भागलपुर जिला भी शामिल किया गया।

गोरखपुर-सिलीगुड़ी एक्सप्रेस-वे
उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले से सिलीगुड़ी तक जाने वाले इस एक्सप्रेस-वे को बिहार के 10 जिलों से होते हुए सिलीगुड़ी तक इसका निर्माण किया गया है। केंद्र सरकार ने इस एक्सप्रेस-वे के निर्माण को सहमति प्रदान कर दी है। पथ विभाग ने भी इस एक्सप्रेस -वे को मंजूरी देते हुए इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण शुरू कर दिया है। यह बिहार में सबसे पहले गोपालगंज जिले में प्रवेश करते हुए सीवान, छपरा, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, मधुबनी, सुपौल, सहरसा, पूर्णिया, किशनगंज को जोड़ते हुए सिलीगुड़ी तक जाएगा।

क्सौल-हल्दिया एक्सप्रेस-वे
नेपाल सीमा पर बने जा रहे इस एक्सप्रेस-वे को बिहार राज्य के रक्सौल से हल्दिया तक का एक्सप्रेस-वे बनाया जा रहा है, इसमें 6-8 लेन होने की सम्भवना है। बिहार के इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण अगले साल शुरू किये जाने का लक्ष निर्धरित किया गया है। इस एक्सप्रेस-वे की लम्बाई 695 km लंबा होगा, और जिसके निर्माण पर 54 हजार करोड़ रुपये का खर्च किया जायेगा।