बिहार राज्य के अंचल कार्यालयों में जाति, आय, आवास प्रमाण पत्र को बनवाने के लिए हो रही भीड़ और सभी लोगो की परेशानी को देखते हुए अब प्रशासन ने इससे ऑनलाइन व्यवस्था पर विशेष बल दे रहा है। अब घर बैठे ही जाति, आय और आवास प्रमाण पत्र बनाने की सुविधा को उपलब्ध करा दिया गया है।

 

इस वर्ष करीब करीब 21 लाख 44 हजार लोगों ने आवेदन किया था, और इसमें से 65 प्रतिशत लोगो ने ऑनलाइन आवेदन किया गया था। आगे आरटीपीएस काउंटर की बजाय लोगो ने ऑनलाइन प्रमाण पत्रों को बनाने के लिए आवेदन दिए और उसे निष्पादन भी करे, ऑनलाइन डाउनलोड करने की शत-प्रतिशत सुविधा भी उपलब्ध करने की योजना बनायीं जा रही है। सोमवार को डीएम डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने इस विषय पर अपने अधिकारियों के साथ बैठक करी। और इससे पहले जनवरी 2021 से 25 दिसंबर 2021 के बीच राजधानी पटना जिले के सभी अंचल कार्यालयों में भी जाति, आय, आवास के लिए करीब करीब 21 लाख 44 हजार 466 लोगों ने आवेदन दिया था, और इनमें से 21 लाख 11 हजार 902 आवेदन को स्वीकार कर लिया गया था।

ऑनलाइन सविधा से कम हुई परेशानी
बिहार राज्य में पहले सभी लोगो को आवेदन के लिए एक लंबी कतार लगानी पड़ती थी, लेकिन जब से ऑनलाइन व्यवस्था को पूरी तरह से लागू किया गया है उसके बाद से समस्या करीब करीब समाप्त हो गयी है । कुछ युवाओं के अनुसार बताया गया कि सर्वर डाउन रहने के कारण ऑनलाइन व्यवस्था में किये जाने वाले आवेदन और कोई भी प्रमाण पत्रों को डाउनलोड करने में थोड़ी सी परेशानी तो हो रही है। इस विषय पर सोमवार को अधिकारियों से इस समस्या का कोई ना कोई हल निकला जाएगा।

इस आवेदन को ऑनलाइन करने के लिए इस सर्विस एप को करना होगा डाउनलोड
इस आवेदन करने के लिए सर्विस एप को अपने मोबाइल पर डाउनलोड करना होगा। इसे खोलने के बाद बायीं ओर आय, जाति और आवास प्रमाण पत्र के कॉलम दिये जा रहे हैं। जो भी लोगो को बनाना है उस पर क्लिक कर के उस विषय की विस्तृत ब्योरा को आराम से भरें। ऑनलाइन आवेदन करने के बाद आपके मोबाइल पर एक लिंक सेंड किया जाएगा और जिस पर प्रमाणपत्र बनने के बाद एक क्लिक कर उसे आप डाउनलोड कर सकते हैं। इस प्रकार से एक प्रमाणपत्र को बनाने में आपलो 1 सप्ताह से 15 दिन तक का समय लग सकता है।