हाल ही में होने जा रहे चुनाव से पहले ही यूपी विधानसभा चुनाव ने पंचायत प्रतिनिधियों को योगी सरकार ने तोहफा देने की तैयारी कर ली है। जिसके तहत उनके मानदेय में बढ़ोतरी के साथ-साथ वित्तीय और प्रशासनिक अधिकारों में वृद्धि हो सकती है।

मानदेये और अधिकारों में वृद्धि में मांग
पिछले बहुत समय से ग्राम पंचायतों, क्षेत्र पंचायतों व जिला पंचायतों के प्रतिनिधि अपने मानदेय व अधिकारों में वृद्धि की मांग कर रहे थे। इसको लेकर के ग्राम प्रधानों के संगठनों ने सीएम योगी, मुख्य सचिव पंचायतीराज तक की कई बार आपस में बात-चीत हो चुकी थी। सीएम योगी जी ने भी जिला पंचायत अध्यक्षों का सम्मेलन के दौरान उनकी मांगों और अधिकारों को सुन चुके थे। खबरों के मुताबिक सपा सरकार के समय की गई वृद्धि से यह अधिक वृद्धि का अनुमान लगाया जा रहा है।

अनुमानित वृद्धि
खबरों के अनुसार, प्रधानों को 35 सौ रुपये, क्षेत्र प्रमुखों को 9 हजार 8 सौ रुपये, जिला पंचायत अध्यक्षों को 14 हजार रुपये मानदेय के रूप में दिए जाते थे, और अब उसमे बढ़ोतरी कर के बाद से प्रधानों को 5 हजार, क्षेत्र प्रमुखों को 15 हजार, जिला पंचायत अध्यक्षों को 20 हजार रुपये मानदेय किया जाने का निर्णिये लिया गया है।