कितने दिन के बाद कोरोना से मौत होती हैं?

0
30

कोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है, जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्तियों में फैलता है। कोरोना वायरस का वैज्ञानिक नाम SARS-CoV-2 – severe acute respiratory syndrome coronavirus 2 है। इसके आकार की बात करे तो वह मानव के बाल की तुलना में वह 900 गुना छोटा है । नोवल कोरोना वायरस का पहला मामला चीन में दिसंबर 2019 में वुहान शहर में आया था।

कोविड-19 के लक्षण :
◆बुखार
◆सूखी खांसी
◆थकान
◆खुजली और दर्द
◆गले में खराश
◆दस्त
◆सरदर्द
◆स्वाद और गंध न पता चलना
◆त्वचा पर चकत्ते आना या हाथ या पैर की उंगलियों का रंग बदल जाना

कोरोना से मौत की वजह

कोरोना वायरस होने के बाद इंसान को सांस लेने में तकलीफ होने लगती है । इस वायरस का सबसे पहला प्रभाव मानव के गले के आसपास की कोशिकाओं पर पड़ता है।

इसके बाद इसका प्रभाव सांस की नली और फेफड़ों पर पड़ता है, जहाँ ये एक तरह की “कोरोना वायरस फैक्ट्रियां” बनाता है. यानी यहां अपनी संख्या बढ़ाता है ।
Get City News Updates

जिन लोगों का इम्युन सिस्टम वायरस से लड़ने में कामयाब हो जाता है, उनका स्वास्थ्य एक सप्ताह के भीतर सुधरने लगता है लेकिन जिनका इम्युन सिस्टम वायरस से लड़ नहीं पाता उनकी मौत हो सकती है ।

कोरोना वायरस से मौत होने का खतरा बूढ़ों और अस्थमा से परेशान लोगों, मधुमेह और हृदय रोग जैसी परेशानियों का सामना करने वालों लोगों में अधिक होती है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here