शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी के कबूलनामें ने खोल दी नीतीश सरकार के दावे की पोल

0
21

पटना: बिहार में शिक्षा का हाल किसी से छिपी हुई नहीं है. अब तो महहकमं के मंत्री ने भी इसे स्वीकार करना शुरू कर दिया है. शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने बिहार में शिक्षा की बेहतर स्थिति न होने की बात कबूली है. एएन कॉलेज में एक कार्यक्रम के दौरान चौधरी ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में काफी कुछ करना बाकी है.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

अशोक चौधरी का कहना है कि उच्च शिक्षा की स्थिति अभी बेहतर नहीं है. उच्च शिक्षा में नामांकन 15 फीसदी तक है जिसे 25 फीसदी तक पहुंचाने का टारगेट है. उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थान पढ़ाई के बजाए कमाई के लिए खोले जाते हैं जिसे बदलना है.

शिलान्यास समारोह में किया कबूल

अशोक चौधरी ने यह भई कहा कि पंद्रह साल पहले शिक्षा जगत की स्थिति बहुत खराब थी. बिहार में अब भी हायर-एजुकेशन की स्थिति अच्छी नहीं है. एएन कॉलेज कैंपस के मल्टीस्टोरी और मल्टीपर्पस बिल्डिंग का शिलान्यास समारोह और इसी शिलान्यास समारोह में उन्होंने अपनी बातें की.

सीएम नीतीश ने की थी घोषणा

अनुग्रह नारायण कॉलेज कैंपस में 10 करोड़ की लागत से मल्टीस्टोरी और मल्टीपर्पस बिल्डिंग बनाने की घोषणा तीन साल पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने की थी. जिसका शिलान्यास किया गया.

दरअसल, बिहार में शिक्षा विभाग की हालत को लेकर पहले दबी जुबान से कही जा रही थी जिसे शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने औपचारिक रूप से स्वीकार कर लिया. ऐसे में सवाल यह  है कि जिस राज्य में सिर्फ शिक्षा पर 35 हजार करोड़ रूपए खर्च हो रहे हों वहां उसकी बदहाली के लिए किसे जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here