बिहार में एक और घोटाला हुआ उजागर, नवोदय विद्यालय में ऐसे हुआ फर्जीवाड़ा

0
18

सीवानः जिले के जवाहर नवोदय विद्यालय में वर्ग छह में नामांकन घोटाला की बात सामने आते ही जांच शुरू कर दी गयी है. छह में नामांकित 70 बच्चों में 26 बच्चों द्वारा सौंपे गये डॉक्यूमेंट पर फर्जीवाड़ा करने का शक है. नवोदय विद्यालय समिति की नियमों के अनुसार बच्चों को जिस जिले के नवोदय विद्यालय में नामांकन कराना होता है, उस जिले में उसे वर्ग तीन, चार व पांच में सरकारी विद्यालयों या या विभाग द्वारा स्वीकृत निजी विद्यालय में पढ़ना जरूरी है.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

26 बच्चों की तरफ से नामांकन के समय जो सूची सौंपी गयी है, वे दूसरे जिलों के हैं जबकि उनका सीवान के विभिन्न सरकारी विद्यालयों में वर्ग तीन, चार व पांच में अध्ययन का प्रमाणपत्र सौंपा गया है. इसपर विभाग को शंका है. विद्यालय प्रशासन को शंका है कि यदि उसके अभिभावक यहां सर्विस नहीं करते हैं, तो दूसरे जिले के छोटे बच्चे इतनी दूर कैसे सरकारी स्कूलों में शिक्षा ग्रहण कर रहे थे. इसके साथ ही अन्य पहलुओं पर जांच की जा रही है.

एक सप्ताह के भीतर जांच रिपोर्ट

नवोदय विद्यालय प्रशासन की माने तो नामांकन पश्चात समीक्षा के दौरान मामला सामने आने पर 26 बच्चों सहित नामांकित सभी 70 बच्चों की सूची विद्यालय के अध्यक्ष सह जिला पदाधिकारी को सौंप दी गयी है. इसके बाद जिला पदाधिकारी ने जिला शिक्षा पदाधिकारी को एक सप्ताह के भीतर जांच पूरी कर रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है. इधर निदेश प्राप्त होने के बाद डीइओ मो मोतीउर रहमान ने डीपीओ एसएसए के माध्यम से सभी बीइओ को जांच का निदेश दिया है. इधर सीवान सदर प्रखंड के बीइओ ने बताया कि जांच शुरू कर दी गयी है.

जांच में निकली सही तो रद्द हो जायेगा नामांकन

जवाहर नवोदय विद्यालय के प्राचार्य डॉ एसबी मिश्र ने बताया कि जांच में रिपोर्ट सही प्राप्त नहीं होने की स्थिति में सभी 26 बच्चों का नामांकन रद्द कर दिया जायेगा. हालांकि प्राचार्य ने बताया कि फिलहाल उन सभी बच्चों को ऑनलाइन क्लास मुहैया कराया जा रहा है. वहीं यदि इन बच्चों का नामांकन रद्द होता है, तो वेटिंग लिस्ट में शामिल जिले के बच्चों को नामांकन के लिए आमंत्रित किया जायेगा.
Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here