RLSP कार्यालय में हुआ दही-चूड़ा भोज का आयोजन, खरमास बाद उपेंद्र कुशवाहा पर सबकी निगाहें

0
30

पटनाः बिहार में हर साल मकर संक्रांति के मौके पर सियासी दलों के मुखिया या फिर बड़े नेता अपने आवास पर दही-चुड़ा का आयोजन करते हैं. लेकिन इस बार न तो राबड़ी आवास में वो रौनक देखने को मिला और ना ही पूर्व जेडीयू अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह के आवास पर. हालांकि, उपेंद्र कुशवाहा अपने पैतृक आवास पर हर साल की भांति इस साल भी बच्चों को भोज देते नजर आये.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

रालोसपा सुप्रीमों उपेंद्र कुशवाहा अपने पैतृक निवास जावाज (महनार) में दही चुड़ा का आयोजन किया था. इस आयोजन में भारी संख्या में बच्चे खाने के लिए पहुंचे थे. कुशवाहा हर साल इस तरह का आयोजन करते रहते हैं. वहीं, अक्सर अपने आवास पर बच्चों को पढ़ाते हुए बी देखे जाते हैं. वहीं, आज वो पटना स्थित पार्टी कार्यालय में दही-चूड़ा आयोजन में शिकरत किए. इस दौरान पार्टी के कई नेता मौजूद रहे.

ये भी पढ़ेंः पुराने साथियों को एकजुट कर रहे नीतीश कुमार, उपेंद्र कुशवाहा को बड़ा मंत्रालय सौंपने के संकेत

एनडीए को पहुंचाया था नुकसान

मकर समक्रांति के साथ ही खरमास के खत्म होते ही सबकी निगाहें उपेंद्र कुशवाहा की तरफ है. महागठबंधन से अलग होकर इस बार तीसरे मोर्चा को गठन कर चुनाव लड़ा. चुनाव में भले ही कुशवाहा की पार्टी एक भी सीट नहीं हासिल कर पाई लेकिन महागठबंधन के साथ एनडीए को भारी नुकसान पहुंचाया. खासकर, शाहाबाद और मगध में बीजेपी-जेडीयू के अधिकतर उम्मीदवारों को हराने में अहम भूमिका निभाई.

नीतीश के समर्थन में उतरे थे कुशवाहा

चुनाव के बाद नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादवे के सीएम नीतीश पर व्यक्तिगत टिप्पणी पर उपेंद्र कुशवाहा ने आपत्ति जताई थी. वहीं, नीतीश कुमार के समर्थन में उतरते हुए तेजस्वी को नसीहत भी दी थी. इसके बाद नीतीश से उपेंद्र कुशवाहा की मुलाकात भी हुई.

ये भी पढ़ेंः कमजोर पड़े नीतीश ने की छोटे भाई उपेंद्र कुशवाहा से मुलाकात! बढ़ी सियासी हलचल

खरमास से पहले नीतीश कैबिनेट में कुशवाहा के शामिल होने की चर्चा भी खूब हुई. लेकिन कुशवाहा ने इन बातों को खारिज करते हुए खरमास के बाद अपने पत्ते खोलने की तरफ इशारा किया था. ऐसे में हर किसी की निगाहें कुशवाहा के अगले कदम पर है.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here