मुश्किल में सरकार! जीतन राम मांझी के एक दांव से बढ़ गई सियासी हलचल

0
14

पटनाः हम प्रमुख और बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने एनडीए गठबंधन में फिर से पेंच फंसा दिया है. मंत्रीमंडल विस्तार को लेकर मांझी के प्रेशर पॉलिटिक्स से नीतीश सरकार के सामने उलझन खड़ी कर दी है. मंत्रिमंडल विस्तार से ठीक पहले जीतन राम मांझी ने एक मंत्री और एक एमएलसी सीट मांगकर परेशानी बढ़ा दी है.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

हम पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में जीतनराम मांझी ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि अगर हमारी पार्टी के प्रत्याशी सभी 7 सीटों पर जीते होते तो आज सत्ता की चाबी हमारे पास रहती. मांझी ने कहा कि हम नीतीश कुमार को धन्यवाद देते हैं कि उन्होंने हमें सीएम बनाया. इसका फायदा गरीब को मिला है लेकिन लगे हाथों मांझी ने ये भी कहा कि हम नीतीश सरकार पर दबाव डालेंगे कि एक MLC और एक और मंत्री पद हमारी पार्टी को मिले.

मांझी के बेटे हैं कैबिनेट मंत्री

बता दें कि पूर्व सीएम जीतन राम मांझी की पार्टी ‘हम’ एनडीए का हिस्सा है और खुद जीतन राम मांझी के बेटे संतोष सुमन कैबिनेट मंत्री हैं. मांझी ने यह भी ऐलान किया कि उनकी पार्टी बंगाल का चुनाव लड़ेगी और बंगाल में अपनी धारधार उपस्थित दर्ज कराएगी.

ये भी पढ़ेंः शराबबंदी कानून को लेकर जीतनराम मांझी ने नीतीश के सामने रख दी बड़ी मांग, बढ़ी उलझन!

बंगाल में चुनाव लड़ेगी हम

मांझी ने स्पष्ट करते हुए कहा कि हमारी पार्टी बंगाल, झारखंड और दिल्ली में अपना जनाधार मजबूत करेगी. मांझी ने बिहार की सभी इकाईयों को भंग करते हुए कहा कि जिस पार्टी कि नीति ठीक है, उस पार्टी को जनता का सहयोग मिलता है. हमारे समाज के लोग विधायक, मंत्री बन जाते हैं लेकिन समाज की जरूरत भूल जाते हैं. हमारी पार्टी का ऐंजेडा है कि निजी क्षेत्र में आरक्षण मिलना चाहिए. हमें न्यायपालिका में भी आरक्षण चाहिए और सबको एक समान शिक्षा मिलना चाहिए. इसको लेकर अगर आने वाले समय में आंदोलन करना पड़ेगा तो जरूर करेंगे.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here