आईएएस बनने की चाहत रखने वाले मनोज तिवारी को एक साइकिल भी नहीं थी नसीब, इस तरह संघर्षों में गुजारे दिन

0
71

एटरटेनमेंट डेस्कः भोजपुरी स्टार और बीजेपी सांसद और दिल्ली बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष मनोज तिवारी हालिया दिनों मे फिर से पिता बनते ही चर्चा में बने हुए हैं. भोजपुरी फिल्मों के सुपर स्टार बनने और बीजेपी में एमपी बनने और बड़े पदों पर आसित होने से पहले बड़े पापड़ बेलने पड़े हैं.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

भोजपुरी सिनेमा को फिर से जीवंत करने का श्रेय मनोज तिवारी को जाता है. भोजपुरी एल्बमों बनाने के दौर में उन्होंने ससुरा बड़ा पईसा वाला फिल्म बनाकर भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री को फिर से जिंदा कर दिया. लेकिन मनोज तिवारी का सफर इतना आसान नहीं था.

बड़े-बड़े स्टार के साथ कर चुके हैं काम

मनोज तिवारी ‘ससुरा बड़ा पईसा वाला’, ‘दरोगा बाबू आई लव यू’, ‘धरती कहे पुकार के’ जैसी सुपरहिट भोजपुरी फिल्मों में नजर आ चुके हैं. मनोज रवि किशन, दिनेश लाल यादव निरहुआ, पवन सिंह जैसे भोजपुरी सुपर स्टारों के साथ काम कर चुके हैं. मनोज बॉलीवुड की फिल्मों में भी नजर आ चुके हैं.

बेबाक अंदाज के लिए हैं मशहुर

मनोज तिवारी फिलहाल राजनीति में सक्रिय हैं. बेबाक अंदाज के लिए मशहुर मनोज न्यूज़ डिबेट से लेकर टीवी चैनल तक खुलकर अपनी बात रखते हैं. बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने अपने जीवन में खुब संघर्ष किया है कई बार वो अपनी जिंदगी के किस्से शेयर कर चुके हैं.

6 साल चला लंबा संघर्ष

इंडिया न्यूज के शो ‘आप की अदालत’ में मनोज तिवारी ने बताया था,’मैंने 6 साल बेहद संघर्ष किया. पहले तो आईएएस अफसर बनना चाहता था, फिर धीरे-धीरे घटते गए नहीं हुआ तो फिर चलो कम से कम पीसीएस बन जाएं. वो भी नहीं हुआ तो फिर सोचा दरोगा बन जाएं. फिर उसके बाद मैं कुछ भी करने को तैयार था.’ उन्होंने आगे कहा,’ दरोगा भी बनना चाहता था नहीं बने तो सिनेमा में बन गए.’

क्रिकेट खिलाड़ी रह चुके हैं मनोज

मनोज तिवारी ने रजत शर्मा से कहा था, ’शुरुआत में तो गायक बनना चाहता था लेकिन जब सफलता नहीं मिलती थी तो बीच का रास्ता निकालना पड़ता था. कुछ दिन क्रिकेट खेला, स्कॉलरशिप बंद हो गई तो क्रिकेट खेलने के लिए पैसे मिलते थे. सीएबी लीग खेलता था राजस्थान से बंगाल में. हम और सौरव दा (सौरव गांगुली) एक क्लब में खेलते थे.’

 

समाज से मिलते थे ताने

मनोज तिवारी ने आप की अदालत में यह भी बताया था कि नौकरी ना लगने के कारण उनकी गांव में बेइज्जती होती थी. मनोज तिवारी ने बताया था, ‘समाज बार-बार पिन चुभाता रहता था कि तुम्हारी नौकरी नहीं लगी. गांव के लोग पूछते थे क्या भाई क्या हुआ?’ इतना ही नहीं मनोज तिवारी ने बेरोजगारी पर एक गाना भी गाया है जो बेहद हिट हुआ था.

साइकिल के लिए पड़ा था तरसना

मनोज तिवारी ने आप की अदालत में संघर्ष के दिनों को याद करते हुए बताया था कि उनके पास बचपन में साइकिल भी नहीं होती थी. हालांकि सांसद बनने के बाद महंगी गाड़ियों के शौक के बावजूद मनोज तिवारी साइकिल से संसद भी जा चुके हैं.

मनोज तिवारी उत्तर पूर्वी दिल्ली से भाजपा के सांसद हैं. 2019 लोकसभा चुनाव में मनोज तिवारी ने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को शिकस्त दी थी.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here