दिन दहाड़े भरी अदालत में लेसी सिंह के पति बूटन सिंह की हो गई थी हत्या, कुछ ऐसा है राजनीतिक करियर

0
35

पटनाः बिहार में नीतीश कुमार कैबिनेट का विस्तार हो चुका है. सभी मंत्री अपने-अपने विभाग का कार्यभार संभाल चुके हैं. हालांकि, कैबिनेट विस्तार के साथ ही मंत्री बनी लेसी सिंह विवादों के साये में आ गई हैं. नीतीश कुमार के करीबियों में शुमार लेसी सिंह को लेकर पूर्व आईपीएस अमिताभ दास ने डीजीपी को पत्र लिख कर हथियार रखने का आरोप लगाया है.

लेसी सिंह पूर्णिया जिले के धमदाहा विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुनी गई है. कैबिनेट विस्तार में लेसी सिंह की लॉटरी फिर से लग गई. इस बार उन्हें खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग का मंत्री बनाया गया है. इससे पहले वो मार्च 2014 में आपदा प्रबंधन एवं समाज कल्याण विभाग की मंत्री थीं.

 

बूटन सिंह की पत्नी हैं लेसी सिंह

पूर्णिया के धमदाहा से लगातार चुनाव जीतने वाली लेसी सिंह ने 2020 के विधानसभा चुनाव में सीमांचल में जदयू को सबसे अधिक लीड दिलाई थी. लेसी ने आरजेडी प्रत्याशी दिलीप यादव को 33,594 मतों से परास्त किया था. लेसी सिंह बूटन सिंह की पत्नी हैं, जिन्हें साल 2000 में हत्या कर दी गई थी.

दूसरी बार मंत्री बनी हैं लेसी

दरअसल, अपराधियों ने लेसी सिंह के पति बूटन सिंह को कोर्ट परिसर के अंदर ही गोलियों से भून डाला था. उस समय बूटन सिंह समता पार्टी के जिलाध्यक्ष थे. ऐसे में पति की मौत के बाद लेसी सिंह ने राजनीति में कदम रखा. बूटन सिंह के नीतीश का करीबी होने का फायदा लेसी सिंह को मिला. नीतीश ने उन्हें फिर से मंत्रिमंडल में जगह दी.

चुनाव के दौरान भी लगे थे आरोप

जेडीयू नेत्री लेसी सिंह ने सबसे पहला चुनाव 2000 में लड़ते हुए जीती. उसके बाद वह तीन बार और विधायक बनीं. साथ ही दो बार मंत्री बनने का मौका मिला. नवंबर 2020 में विधानसभा चुनावों के दौरान राजद नेता बिन्नी सिंह की हत्या के बाद लेसी सिंह पर मृतक परिजनों ने आरोप लगाए थे. जिसे लेसी सिंह ने सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया था.

ये भी पढ़ेंः विधायक जी ने अपनी पहली सैलरी से खरीदी भैंस, तस्वीर शेयर कर इस तरह जाहिर की खुशी

बता दें कि समता पार्टी के जमाने से जुड़ी लेसी सिंह सीमांचल से सिर्फ एक मात्र विधायक हैं जिन्हें इस बार मंत्री बनाया गया है और वो हैं लेसी सिंह. मंत्री पद की शपथ लेते ही लेसी सिंह को लेकर पूर्व IPS अधिकारी अमिताभ दास की एक चिट्ठी ने बवाल खड़ा कर दिया. चिट्ठी में दावा किया गया है कि नीतीश सरकार में मंत्री बनी लेसी सिंह के ठिकानों पर AK-47, AK-56 और SLR जैसे अत्याधुनिक छिपाकर रखे गए हैं.

पूर्व आईपीएस ने लिखी डीजीपी को चिट्ठी

अमिताभ दास कहते हैं कि इसके बारे में उनके पास पक्की सूचना है. पुलिस को जल्द से जल्द मंत्री लेसी सिंह के ठिकानों पर छापेमारी करनी चाहिए, उन ठिकानों पुरी तरह से खंगाला जाना चाहिए. अमिताभ दास ने लेसी सिंह के संदर्भ में एक लेटर बिहार के DGP एसके सिंघल को लिखा है.

कुख्यात अपराधी था बूटन सिंह

अमिताभ दास के मुताबिक लेसी सिंह का पति बूटन सिंह, पूर्णिया का कुख्यात अपराधी था. इसका सीमांचल इलाके का आतंक था. बूटन सिंह के ऊपर हत्या, अपहरण और रंगदारी जैसे गंभीर अपराध के करीब एक दर्जन से अधिक मामले दर्ज थे. अप्रैल 2000 में अपराधियों ने ही बूटन सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

ये भी पढ़ेंः नीतीश कुमार ने कर दिया मंत्रालय का बंटवारा, जानिए किसे कौन सा विभाग मिला

पूर्व आईजी ने दावा किया है कि बूटन सिंह नीतीश कुमार का लंगोटिया यार था. मौत के समय बूटन सिंह समता पार्टी का पूर्णिया जिलाध्यक्ष था. बूटन सिंह की हत्या के बाद उसके गिरोह की कमान को लेसी सिंह के हाथों में आ गई. गिरोह के सारे हथियार लेसी सिंह के पास है. जिसे ठिकानों पर ही छिपाकर रखे गए हैं.

इस इनपुट पर DGP को संज्ञान लेना चाहिए और तेजी से कार्रवाई करवानी चाहिए. गौरतलब है कि साल 2000 में अमिताभ दास पूर्णिया के पड़ोसी जिले किशनगंज में SP थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here