चिराग ने मिलाया तेजस्वी के सुर में सुर, नीतीश के लिए बज गई खतरे की घंटी

0
19

पटना:नीतीश सरकार के नए आदेश को लेकर चिराग पासवान की पार्टी एलजेपी ने तेजस्वी यादव के सुर से सुर मिलना शुरू कर दिया है. दोनों ने एक ही अंदाज़ में ट्वीट कर सीएम नीतीश पर निशान साधा है. अब इन दोनों के एक जैसे ट्वीट ने सूबे की सियासत में एक नया रुख आ गया है.

बता दें कि बिहार सरकार के गृह विभाग ने मंगलवार को एक अधिसूचना जारी करते हुए कहा है कि अब किसी भी विरोध प्रदर्शन, सड़क जाम या मार्च के दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले व्यक्ति को सरकारी नौकरी नहीं दी जाएगी. सरकार के इसी फैसले पर तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर निशाना साधा है.

तेजस्वी का नीतीश पर निशान 

उन्होंने अपने ट्वीट में कहा,” मुसोलिनी और हिटलर को चुनौती दे रहे नीतीश कुमार कहते हैं अगर किसी ने सत्ता व्यवस्था के विरुद्ध धरना-प्रदर्शन कर अपने लोकतांत्रिक अधिकार का प्रयोग किया तो आपको नौकरी नहीं मिलेगी. मतलब नौकरी भी नहीं देंगे और विरोध भी प्रकट नहीं करने देंगे. बेचारे 40 सीट के मुख्यमंत्री कितना डर रहे है?”

एलजेपी ने नीतीश को घेरा 

इसके बाद इस मामले पर चिराग पासवान की पार्टी एलजेपी ने भी ट्वीट कर नीतीश सरकार पर हमला बोला. पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में कहा गया है कि महात्मा गांधी और जेपी के विचारों का गला घोंट कर हिटलर और बेनिटो मुसोलिनी के विचारों से प्रेरित बिहार प्रदेश प्रशासन ने बेहद कायरना फरमान जारी किया है. अब कोई भी पीड़ित अपनी आवाज आदरणीय नीतीश कुमार जी के ख़िलाफ नहीं उठा पाएगा. लोजपा ऐसे किसी भी बेतुके फरमान के खिलाफ है.

ये भी पढ़ें:धरना-प्रदर्शन पर बैन के बीच बिहार वाले किम जोंग की उन की हुई इंट्री…

इन दोनों ट्वीट की भाषा और उदाहरण में दिए गए नाम एक हैं. दोनों एक ही तरह की बात कर रहे हैं. वहीं, दोनों ही नीतीश सरकार के फैसले का विरोध कर रहे हैं. ऐसे में ये सवाल उठना लाजमी है कि क्या चिराग पासवान अब तेजस्वी यादव की नकल कर रहे हैं ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here