डोली से पहले उठी लड़की की उठी अर्थी, प्रेमी प्लीज कॉल…प्लीज कॉल करता रहा

0
28

पटनाः शगुफ्ता (25) का सेना में तैनात जवान गणेश से अफेयर चल रहा था. इस बीच दो महीने पहले परिवार वालों ने उसका ब्याह तय कर दिया. मई में उसका निकाह होना था. ठीक पांच माह बाद उसकी डोली उठती की उससे पहले उसका जनाजा उठाया गया तो गांव में कोहराम मच गया.

मृतका के भाई ने बताया कि गणेश ने उसकी बहन को सुसाइड करने पर मजबूर किया. जिस समय बहन ने फांसी लगाई गणेश ऑनलाइन कॉल पर था और मैसेज कर रहा था, प्लीज कॉल… प्लीज कॉल. घटना सुलतानपुर के कोतवाली देहात थाना क्षेत्र के बरसड़ा गांव की है. रोशन उर्फ शगुफ्ता आफरीन (25) पुत्री मोहम्मद फारूक की दो माह पहले सगाई हुई थी. 19 मई को उसका शादी होनी थी इसको लेकर तैयारियां चल रही थीं. इसी बीच उसने आत्महत्या कर ली और डोली उठने के बजाय उसका जनाजा उठा तो परिवार में मातम पसरा है.

ऑनलाइन था मोबाइल

मृतका के भाई जहीन हाशमी की तहरीर पर गांव के ही फौजी गणेश गुप्ता पर आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का मुकदमा दर्ज किया गया है. फिलहाल गणेश गुप्ता पठानकोट में आर्मी सप्लाई कोर में तैनात है. मृतका के भाई जहीन हाशमी ने बताया कि वो सुलतानपुर में था. घर से फोन आया कि रोशन ने आत्महत्या कर ली है. हम जब घर आए तो उसका मोबाइल ऑनलाइन चल रहा था. वो फांसी लगाकर आत्महत्या चुकी थी. आधे घंटे तक कॉल चली और गणेश बार-बार मैसेज पर मैसेज कर रहा था, प्लीज कॉल मी.

पिता ने इंसाफ के लिए लगाई गुहार

मृतका के पिता का कहना है कि बेटी को इंसाफ मिलना चाहिए. जिस बेटी की मुझे मई में डोली उठानी थी. उसका जनाजा उठाना पड़ रहा है, इस दर्द को एक बेटी वाला ही जान सकता है. मैं बाहर रहता हूं, मुझे इस बारे में पता नहीं था, अगर पता होता तो उसे ऐसे करने से रोकता.

भाई के बयान पर मामला दर्ज

मां ने प्रेमी गणेश गुप्ता को बेटी की मौत का जिम्मेदार ठहराया है. मां ने तो यहां तक कह डाला की अगर हमारी लड़की को इंसाफ नहीं मिला तो हम जेल तक काटेंगे. लेकिन लड़की को इंसाफ दिलाकर रहेंगे. एसपी डा. अरविंद चतुर्वेदी ने बताया की भाई की तहरीर पर आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here