विपक्षी विधायकों ने स्पीकर को बनाया बंधक, हंगामे के बीच विधायकों को पीटते हुए मार्शल ने उठाकर सदन से फेंका बाहर

0
29

पटनाः बिहार विधान सभा में आज शर्मनाक घटना घटी. विपक्षी विधायक लगातार सुबह से ही सदन में भारी हंगामा कर रहे थे. सभी विधायकों का विरोध बिहार सशस्‍त्र पुलिस विधेयक 2021 को लेकर था. हंगामा के कारण सुबह से ही ना प्रश्‍न काल चला, ना ही शून्‍य काल.

वहीं, भाेजनावकाश के बाद सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्षी विधायकों ने नारेबाजी करते हुए रिपोटर्स टेबल पर कुर्सिया फेंकी, टेबल पर चढ़ गए. कागज फाड़कर उड़ाया. मार्शलों ने रोका तो धक्‍का-मुक्‍की की गई. हंगामे के कारण तीन बार कार्यवाही स्‍थगित करनी पड़ी.

विजय सिन्हा को चैंबर में बनाया बंधक

विधान सभा अध्‍यक्ष विजय कुमार सिन्‍हा के चैंबर रहने के दौरान ही चैंबर को घेरकर नारेबाजी करने लगे. सभी विपक्षी विधायक चैंबर से लगे तीनों गेट पर भारी संख्‍या में जमा होकर बैठ गए जिसमें आगे महिला विधायक रहीं. 4.30 बजे सदन की कार्यवाही शुरू कराने के लिए स्‍पीकर को चैंबर से निकलने नहीं दिया. दूसरे दरवाजे को विधायकों ने रस्सी से बांध दिया. जिसके बाद अध्यक्ष लौट कर चैंबर में चले गए. विधायक स्‍पीकर को उनके कमरे में बंधक बनाए रहे.

डीएम एसएसपी पहुंचे विधानसभा

हालात को देखते हुए विधान सभा में भारी संख्‍या में पुलिस बुलाई गई. साथ ही पटना के डीएम और एसएसपी एसपी भी पहुंचे. घेराव में एक बार डीएम भी घिर गए. समझाने से विधायक नहीं मानें तो बल प्रयोग कर उन्‍हें हटाया जाने लगा. इस दौरान विधानसभा में अध्य्क्ष के प्रवेश करने वाले गेट को भी बंद कर दिया. अध्यक्ष के चैंबर के बाहर हंगामा कर रहे विधायकों और पुलिस के बीच मारपीट शुरू हो गई.

ये भी पढेंः ‘नीतीश कुमार समाजवाद के नाम पर कलंक है, धब्बा हैं! मर्द हो तो चलाओ गोली’

विधायकों को रैफ ओर बिहार पुलिस के जवानों ने जबरन खींचकर हटाया. इस दौरान राजद नेता सत्येंद्र यादव को पुलिस ने मुक्का भी मारा. हालात ऐसे भी हुए की कई विधायकों को पीटकर निकाला गया. वहीं, डीएम ने विधान सभा का गेट खुलवाया. विधान सभा का गेट खुलने के बाद भी सदन की कार्यवाही तो शुरू नहीं की गई. हालांकि, महिला विधायक विधान सभा अध्‍यक्ष के आसन के पास पहुंच गई और उनकी खाली कुर्सी को घेरकर खड़ी हो गई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here