बिहार में इन जगहों पर बालू के खनन और खुदाई पर रोक, DM के हाथों में सरकार ने दिया पूरा पावर

0
38

पटनाः बिहार सरकार पुलों के रख-रखाव के लिए कड़े कदम उठाने जा रही है. इसके लिए पुल के आस-पास अवैध खनन को रोका जा रहा है. सरकार ने पुलों के रखरखाव और अवैध बालू खनन पर रोक लगाने के लिए सभी डीएम को कड़े निर्देश दिये हैं. पथ निर्माण विभाग ने पुलों के आस-पास बालू खनन और किसी भी प्रकार की खुदाई पर रोक लगा दी है.

प्रतिबंध का दायरा राज्य के सभी नदियों पर निर्मित या निर्माणाधीन पुल के आस-पास है. अब से बिहार में किसी भी नदी में पुल से पांच सौ मीटर अप और पांच सौ मीटर डाउन स्टीम में खनन नहीं होगा. इस संबंध में पथ निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव अमृतलाल मीणा ने सभी जिलों के डीएम को पत्र लिखा है. पत्र में सभी जिलाधिकारियों को पुलों के आसपास बालू खनन करने वालों पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है.

खनन से पुल हो रहे कमजोर

अमृतलाल मीणा ने कहा है कि आवागमन सुलभ करने के लिए 15 सालों में सभी नदियों पर सैकड़ों पुलों का निर्माण कराया गया है. पुलों के आसपास बालू का खनन किया जा रहा है. इससे नदी के बहाव क्षेत्र में बड़ा बदलाव होने से पुलों की नींव में भारी नुकसान पहुंचा है. इसके बारे में राज्य से कई जगहों से इस तरह की सूचनाएं मिली हैं.

ये भी पढ़ेंः मल्लाह जाति के आरक्षण को मोदी सरकार ने किया रिजेक्ट, तो भड़क गए मंत्री मुकेश सहनी-कहा कुर्सी पर लात मार दूंगा

अमृत लाल मीणा ने बताया कि दक्षिण बिहार से गुजरने वाली फल्गू, पंचाने, सकरी, सोन, पुनपुन, बदुआ, चानन और गोईठवा आदि नदियों पर बने पुलों को सबसे ज्यादा क्षति पहुंचा है. इन पुलों के निर्माण पर सरकार बड़ी राशि खर्च की करती है लेकिन पुल के आसपास बालू के अवैध खनन की वजह से नुकसान नहीं होने दिया जा सकता है. इस संबंध में सभी जिलाधिकारियों को पावर दिया गया है कि वो नदियों पर निर्मित-निर्माणाधीन पुल स्थल से 500 मीटर अप स्टीम और 500 मीटर डाउन स्टीम में किसी भी परिस्थिति में बालू-मिट्टी आदि का खनन और खुदाई नहीं होने दें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here