इंडिया के पड़ोसी देश का बड़ा फैसला, बुर्का पहनने पर लगाएगा प्रतिबंध

0
50

कोलंबो: फ्रांस और स्विट्जरलैंड के बाद अब श्रीलंका ने भी कट्टरपन पर काबू पाने के लिए बुर्का पहनने पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है. इसके साथ ही एक हजार से ज्यादा इस्लामिक स्कूलों और मदरसों को भी बंद करने की तैयारी हो रही है.

श्रीलंका के सार्वजनिक सुरक्षा मंत्री सरथ वेरासेकेरा ने एक समाचार सम्मेलन में कहा कि उन्होंने देश में सुरक्षा हालात को मजबूत करने के लिए बुर्के पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है. बुर्का पहनने से व्यक्ति का चेहरा नहीं दिखता, जिससे आतंकी घटनाओं को बढ़ावा मिलता है. उन्होंने कहा कि बुर्के पर बैन के प्रस्ताव पर उन्होंने साइन कर दिए हैं और अब इसे मंजूरी के लिए कैबिनेट को भेजा जाएगा.

श्री लंका में बढ़ रहा कट्टरपन

सरथ वेरासेकेराने कहा,’हमारे देश में पहले मुस्लिम लड़कियां बुर्का नहीं पहनती थी. बाद में तबलीगी जमात वालों का देश में प्रभाव बढ़ा और लड़कियों में इसे पहनने का चलन शुरू हो गया. यह समाज में मजहबी कट्टरपन बढ़ने का एक संकेत है. हम इसे सहन नहीं करेंगे और निश्चित रूप से इस पर प्रतिबंध लगाएंगे.’

मदरसे उड़ा रहे धज्जियां

सरथ वेरासेकेरा ने कहा,’सरकार की योजना एक हजार से अधिक मदरसा और इस्लामिक स्कूलों पर प्रतिबंध लगाने की भी है. ये मदरसे और इस्लामिक स्कूल देश की राष्ट्रीय शिक्षा नीति की धज्जियां उड़ा रहे हैं. देश में सब लोगों को अपनी आस्था के पालन करने का अधिकार है लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि कोई भी व्यक्ति अपनी आस्था के नाम पर मजहबी स्कूल खोल ले और वह सब कुछ सिखाना शुरू करे, जो वह चाहता है.’

2019 में इस्लामिक आतंकियों ने किया था हमला

बता दें कि श्रीलंका में शांतिप्रिय माने जाने बौद्ध समुदाय के लोग बहुसंख्यक हैं. 2019 में इस्लामिक आतंकियों ने बड़े पैमाने पर होटलों और चर्चों पर हमला कर 250 लोगों को मार डाला था. जिसके बाद श्रीलंका में अस्थाई रूप से बुर्का पहनने पर प्रतिबंध लगा दिया गया. वहीं, राष्ट्रपति चुने गए गोतबाया राजपक्षे ने देश में कट्टरपंथ को जड़ से खत्म करने का वादा किया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here