सासाराम में छात्रों के हंगामा के बाद छपरा में प्राइवेट स्कूल के मालिकों ने दी नीतीश सरकार को धमकी!

0
36

छपराः बिहार में कोरोना के बढ़ते केस की वजह से सभी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग और शिक्षण संस्थान बंद कर दिये गए हैं. हालांकि इस आदेश के बाद सरकार को नाराजगी भी झेलनी पड़ रही है. कल सासाराम में स्टूडेंट्स ने जमकर हंगामा किया. वहीं, अब छपरा में भी सरकार के आदेश को प्राइवेट स्कूल के प्रबंधक मानने से इनकार कर रहे हैं.

दरअसल, कोरोना की वजह से सभी प्राइवेट स्कूल बंद रहे. ऐसे में फिर से स्कूल को बंद करने से प्रबंधकों का सरकार पर गुस्सा फूट पड़ा है. 200 स्कूलों के प्रबंधकों ने नीतीश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहे स्कूलों ने सरकारी निर्देश मानने से इनकार कर दिया है. स्कूल प्रबंधकों ने ऐलान किया है कि किसी भी हाल में 12 तारीख से स्कूल खोले जाएंगे. लेकिन स्‍कूल में कोरोना गाइडलाइंस का पालन भी किया जायेगा.

प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन की हुई बैठक 

स्कूल बंद होने के बाद छपरा में प्राइवेट स्कूल एंड चिल्ड्रेन वेलफेयर एसोसिएशन की बैठक हुई जिसमें जिले के लगभग 200 सौ स्कूल संचालक उपस्थित हुए. बैठक में इस बात का निर्णय लिया गया कि यदि सरकार 12 अप्रैल 2021 से स्कूल खोलने की अनुमति नहीं देती है तो भी कोरोना से बचाव के दिए गए निर्देश का पालन करते हुए जिले के सभी स्कूल खुलेंगे.

ये भी पढ़ेंः कोरोना पर हाई लेवल की मीटिंग, तो क्या फिर से बिहार में होगा लॉकडाउन? स्वास्थ्य मंत्री का बड़ा बयान

एसोसिएशन अध्यक्षा सीमा सिंह का कहना है कि कोरोना काल में स्कूल गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं. वहीं, सरकार सरकार की तरफ से कोई मदद भी नहीं मिली. स्कूलों के पास अपने शिक्षकों को वेतन देने के लिए पैसे भी नहीं है जिसके कारण प्राइवेट शिक्षक भुखमरी के शिकार हो गए हैं. कोरोना काल में अधिकांश विद्यालय बंद हो गए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here