कोरोना के लक्षण पर कितने दिन बाद कराएं जांच, क्वारंटाइन होने से लेकर जानिये हर जरूरी सवालों के जवाब

0
17

देश में हर तरफ कोरोना वायरस की दूसरी लहर कहर बनकर टूटी है. अस्पतालों में बेड की कमी और ऑक्सीजन की किल्लत हर किसी को परेशान कर रही है. लोगों को हल्का सा सर्दी-जुकाम या फिर बुखार आ रहा है, वो लोग भी घबरा रहे हैं और इस बात को लेकर डर रहे हैं कि कहीं वो भी तो कोरोना वायरस की चपेट में नहीं आ गए. ऐसे में आपका जानना जरूरी है कि आपको अगर ऐसा कुछ लगता है, तो सबसे पहले आपको क्या कदम उठाने चाहिए.

एंटी कोरोना टास्क फोर्स, नोएडा के डॉ सिद्धार्थ गुप्ता के मुताबिक कोरोना की दूसरी लहर पहले के मुकाबले काफी खतरनाक है. इस बार युवा लोग भी काफी ज्यादा संक्रमित हो रहे हैं. ऐसे में आपको लक्षणों को अनदेखा नहीं करना है, क्योंकि ऐसा करने से आगे चलकर फेफड़ों में दिक्कतें और ऑक्सीजन की कमी आदि की दिक्कतें बढ़ सकती हैं.

कोरोन के लक्षण दिखने पर खुद को करेंं क्वारंटाइन

सर्दी-जुकाम, तेज बुखार, गले में खराश, नाक का बहना, सांस लेने में दिक्कत, आंखों का लाल होना, सिर दर्द होना, मांसपेशियों या पूरे शरीर में दर्द आदि इसके लक्षण हैं. अगर कोरोना वायरस के शुरुआती लक्षण नजर आते हैं, तो उसी वक्त यानी पहले दिन से ही खुद को बाकी लोगों से अलग कर लेना चाहिए. जांच की रिपोर्ट आने का इंतजार करने के बजाए खाने वाले बर्तन, अपने कपड़े आदि जरूरत का सामान लेकर एक अलग कमरे में खुद को क्वारंटाइन करें.

लक्षण दिखने पर करायें टेस्ट

लोग उलझन में रहते हैं कि लक्षण दिखने के कितने दिन बाद उन्हें कोरोना टेस्ट कराना चाहिए. अक्सर देखा जाता है कि लोग शुरुआती लक्षण दिखने पर ही बहुत जल्दी जांच कराने के लिए पहुंच जाते हैं, जिसके कारण कई बार उनकी रिपोर्ट निगेटिव आ जाती है. जबकि विशेषज्ञ मानते हैं कि संक्रमण का संकेत दिखने के तीन बाद टेस्ट कराना सही समय है. हालांकि, लक्षण दिखते ही टेस्ट कराने में भी कोई बुराई नहीं है.

अपनी मर्जी से न लें दवा

कई लोगों को देखा जाता है कि उन्हें कोई दिक्कत होती है, तो वो अपनी मर्जी से दवा ले लेते हैं. लेकिन आपको कोरोना के मामले में ऐसी गलती नहीं करनी है, क्योंकि ऐसा करने से आप पर इसका गलत असर पड़ सकता है. डॉक्टर की सलाह पर ही दवाओं का सेवन करें, अपनी मर्जी से कोई दवा भूलकर भी न लें.

चेक करते रहें ऑक्सीजन लेवल

कोरोना की वजह से लोगों का ऑक्सीजन लेवल भी गिर रहा है. ऐसे में आपको अपना ऑक्सीजन लेवल चैक करना है. अगर आपका ऑक्सीजन लेवल 94 से ऊपर है, तो चिंता की बात नहीं है. लेकिन इससे कम होने पर आपको अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत पड़ सकती है. ऐसे में आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here