कोरोना ने 32 दिन में उजाड़ दिया हंसता-खेलता परिवार, घर में अकेली बच गई विधवा बहू

0
15

कोरोना काल में कोई ऐसा शहर व गांव नहीं है, जहां अर्थियां न उठ रही हों. मध्यप्रदेश के इंदौर में भी ऐसी ही स्थिति बनी हुई है. यहां कोरोना से संक्रमित होने के 32 दिनों के भीतर चार लोगों के परिवार में से तीन की मौत हो गई। यह हंसता-खेलता परिवार सास-ससुर और बेटा-बहू का था, जिसमें बहू को छोड़कर सभी सदस्यों ने दुनिया को अलविदा कह दिया.

इंदौर के इंद्रलोक कॉलोनी में रहने वाली अवनी जैन की शादी 11 महीने पहले ही अमन जैन से हुई थी. परिवार में अवनी और अमन के अलावा सास प्रियंका जैन और ससुर उमेश जैन थे. पिछले माह परिवार के दो सदस्य एक कार्यक्रम में शामिल हुए थे. उसके कुछ दिन बाद प्रियंका जैन कोरोना पॉजिटिव पाई गईं.

उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, लेकिन वह बच न सकीं. प्रियंका जैन के निधन के कुछ दिन बाद पहले उमेश जैन और फिर अमन जैन की भी तबीयत खराब हुई और बारी-बारी से दोनों ने दुनिया को अलविदा कह दिया. अब पूरे परिवार में केवल बहू अवनी जैन बची हैं.

असिस्टेंट रजिस्ट्रार थे अमन जैन 

अमन जैन निजी यूनिवर्सिटी में असिस्टेंट रजिस्ट्रार थे जबकि उनकी मां डॉ. प्रियंका जैन शहर की प्रमुख शिक्षाविदों में शामिल थीं. वह उज्जैन और जबलपुर यूनिवर्सिटी में कार्यपरिषद की सदस्य होने के अलावा एक अच्छी पायलट भी थीं. उमेश जैन इंदौर की ही एक प्रमुख एडवरटाइजिंग एजेंसी से जुड़े थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here