‘अमित शाह एक अयोग्य चुनावी रणनीतिकार, तीन बार चटा चुका हूं धूल’

0
20

पश्चिम बंगाल चुनाव में ममता बनर्जी के रणनीतिकार रहे प्रशांत किशोर का कहना है कि उन्होंने अमित शाह के नेतृत्व में लड़े जाने वाले तीन चुनावों में बीजेपी को धूल चटा दी. ‘द वायर’ में छपी रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने कहा कि अमित शाह सबसे ज्यादा ओवररेटेड राजनीतिक और चुनावी रणनीतिकार हैं. पीके के मुताबिक 2015 में बिहार, दिल्ली और बंगाल में उन्हें हार का सामना करना पड़ा.

इसके बाद पंजाब और आंध्र प्रदेश में भी मुंह की खानी पड़ी जहां वे अपने सहयोगियों के साथ मैदान में थे. लेकिन प्रशांत किशोर ने 2017 में हुए यूपी के चुनाव का जिक्र नहीं किया. इस चुनाव में कांग्रेस के लिए रणनीतिकार का काम कर रहे थे लेकिन पार्टी को बुरी हार का सामना करना पड़ा था. इस हार की जिम्मेदारी भी नहीं ली और कह दिया था कि राहुल गांधी गंभीरता से चुनाव नहीं लड़ते हैं.

मोदी-शाह को करीब से जानते हैं पीके

प्रशांत किशोर के इस दावे को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है क्योंकि वे मोदी और शाह दोनों के ही काफी करीब रहकर काम कर चुके हैं. हालांकि उस दौरान अमित शाह के साथ उनके रिश्ते किस तरह के थे यह नहीं कहा जा सकता. कई मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया कि अमित शाह को यह अच्छा नहीं लगता था कि पीके मोदी के ज्यादा करीबी बनें और इसलिए उन्हें धीरे- धीरे किनारे किया गया.

बंगाल चुनाव पर कर रहे थे बड़ा दावा

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल चुनाव के दौरन अमित शाह ने कहा था कि प्रशांत किशोर बहुत बढ़ा-चढ़ाकर दावे कर रहे हैं. दरअसल किशोर का कहना था कि बंगाल में भाजपा को 100 से कम ही सीटें मिलेंगी.  जबकि दूसरी तरफ अमित शाह 200 सीटों का दावा ठोक रहे थे. चुनाव परिणाम के बाद पीके की बात सच साबित हुई और भाजपा को 77 सीटों से ही संतोष करना पड़ा.

पीएम के सबसे विश्वसनीय और करीबी हैं शाह

बता दें कि गृह मंत्री अमित शाह प्रधानमंत्री मोदी के सबसे करीबी और विश्वसनीय हैं. लंबे समय से वह मोदी के साथ रहे हैं. 2002 से 2010 के बीच वह गुजरात में कैबिनेट मिनिस्टर रहे. जिन राज्यों में विधानसभा चुनाव होते हैं उस दौरान भी गृह मंत्री अमित शाह ऐक्टिव रहते हैं और ताबड़तोड़ रैलियां करते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here