गाय का दूध पीकर कोरोना को हरा रहे चीन के लोग! सरकार के आदेश के बाद रोजाना कम से कम पीते हैं इतना दूध

0
26

देश में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. रोजाना कोरोना की चपेट में बड़ी संख्या में युवा भी आ रहे हैं. हालांकि, रोग प्रतिरोधक क्षमता बाये रखने के लिए डॉक्टर के बताये हर सलाह को लोग मान रहे हैं. कई देशों ने इस महामारी पर काफी हद तक काबू पा लिया है.

वैक्सीन लगवाने से लेकर लाइफस्टाइल में बदलाव कर रहे हैं जिससे कोरोना की संभावना को कम किया जा सके. इस बात से हैरानी होगी कि चीन में कोरोना को हराने के लिए गाय के दूध का सहारा लिया जा रहा है. चीन की सरकार शरीर में प्रोटीन की मात्रा बढ़ाने के लिए लोगों को ज्यादा से ज्यादा गाय का दूध पीने के लिए कह रही है. यह भी दावा किया जा रहा है कि प्रोटीन इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है.

कम से कम 300 ग्राम दूध पीने की सलाह

पिछले साल कोरोना फैलने के बाद संसद की वार्षिक बैठक में कानून निर्माताओं ने सरकार को दूध पीने पर एक कानून बनाने का सुझाव दिया था. इसमें हर व्यक्ति को रोजाना कम से कम 300 ग्राम दूध पीने की सलाह दी गई थी. ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार, शंघाई केहुआशान अस्पताल में संक्रामक रोग विभाग के प्रसिद्ध डॉक्टर झांग वेनहोंग ने संक्रमण के शुरुआती दौर में चीन के पेरेंट्स को एक विशेष सलाह दी थी. डॉक्टर वेनहोंग ने कहा था, ‘माता-पिता को हर दिन सुबह बच्चों को दूध और अंडे देना शुरू कर देना चाहिए. ब्रेकफास्ट में पोर्रिज देना बिल्कुल बंद कर देना चाहिए.’

सोशल मीडिया छिड़ा बहस

वहीं, चीन के कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म दूध पीने की इस बाध्यता को लेकर बहस भी छिड़ गई है. चीन में ज्यादातर लोग ब्रेकफास्ट में बन और पोर्रिज (एक प्रकार का दलिया) खाते हैं. लोगों का कहना है कि अपना परंपरागत नाश्ता छोड़कर दूध और टोस्ट खाना कहां तक लाजमी है.

खानपान को लेकर बवाल

चीन के कुछ लोग वहां के ट्रेडिशनल डाइट और दूध से मिलने वाले पोषण की तुलना कर रहे हैं. लोगों का कहना है कि चीन के परंपरागत खानपान में एनिमल प्रोटीन ज्यादा होता है. आलोचकों का कहना है कि खानपान में किसी भी तरह का बदलाव कोरोनावायरस होने से नहीं बचा सकता है और डाइट में प्रोटीन शामिल करने के और भी तरीके हैं.

ये भी पढ़ेंः शराबी झोलाछाप ‘डॉक्टर’ को आत्मा ने बताया कोरोना का आसान इलाज, बताते ही लग रही है लोगों की भीड़

वहीं चीन की सरकार ने 2025 तक 450 लाख टन दूध के उत्पादन का लक्ष्य रखा है जो कि अब तक के उत्पादन से 30 गुना ज्यादा है. चीन में गायों के देखभाल और उनके खानपान पर भी अब विशेष ध्यान दिया जा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here