पिता मोहन पासवान के निधन से टूट गई साइकिल गर्ल ज्योति, छलका दर्द

0
20

बिहार के दरभंगा की साइकिल गर्ल के नाम से मशहुर ज्योति पासवान के पिता मोहन पासवान की मौत हो गई. हार्ट अटैक के कारण उनकी मौत हो गई. ज्योति पासवान पिछले साल कोरोना काल के दौरान सुर्खियों में आ गई थी जब लॉकडाउन में अपने पिता को साइकिल पर बिठा कर गुड़गांव से दरभंगा पहुंची थी.

दरभंगा जिले के सिंहवाड़ा प्रखंड स्थित सिरहुल्ली गांव की 13 साल की ज्योति लॉकडाउन के दौरान अपने पिता मोहन पासवान को साइकिल पर बैठाकर गुड़गांव से 8 दिन में दरभंगा पहुंची थी. ज्योति के पिता मोहन पासवान के चाचा की 10 दिन पहले मौत हो गयी थी. उनके श्राद्ध कर्म के भोज के लिए एक मीटिंग हो रही थी. मीटिंग खत्म होने के बाद मोहन खड़े होते ही गिर पड़े और उनकी मौत हो गई. परिजनों ने बताया कि मोहन पासवान की मौत हार्ट अटैक के कारण हुई है.

पिता को याद कर भावुक रही ज्योति

साइकिल गर्ल ज्योति का कहना है कि उसे उम्मीद नही थी कि जिस पिता के बदौलत इतनी कामयाबी मिली, आज वो छोड़ कर चले गए. उनकी कमी जीवन में कभी पूरी नहीं हो सकती है. ज्योति ने पिछले साल का जिक्र करते हुए कहा कि वो बीमार पिता के साथ गुरूग्राम के एक सामान्य कमरे में रहती थी. सड़क हादसे की वजह से पिता मोहन बीमार चल रहे थे. 8 मई की बात है, कोरोना से बचाव के लिए लगाए गए लॉकडाउन से हर कोई परेशान था.

ये भी पढ़ेः गुड़गांव से लेकर गई थी दरभंगा लेकर आने वाली ‘साइकिल गर्ल’ ज्योति के पिता की हुई मौत, गांव में पसरा मातम

मेरे और पापा की भीवहीं स्थिति थी. उपर से पापा के लिए घर में दवा नहीं थी, पेट भरने के लिए राशन भी खत्म हो गया थी. मकान मालिक रोजाना धमकी दे रहा था, रेंट दो नहीं तो मकान खाली करो. पास मेंमात्र एक हजार रूपये थे. ज्योति ने बताया कि, मैंने कहा-यहां रहना अब ठीक नहीं है. वापस गांव चलिए. पापा बोले-कैसे जायेगे. मैंने कहा-साइकिल से, तो उन्होंने मना कर दिया. गांव में मां को फोन किया. मां ने शुरू में मना किया. लेकिन दोनों बाद में मान गए. हालांकि, अचानक पिता के दुनिया से चले जाने से ज्योति काफी दुखी हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here