उपेंद्र कुशवाहा-नीतीश के मिलने से तेजस्वी की बढ़ी टेंशन! आनन-फानन में कुशवाहा विधायकों को उतारा मैदान में

0
15

पटनाः नीतीश कुमार और उपेंद्र कुशवाहा के एक साथ आ जाने पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के माथे पर शिकन ला दिया है. यहीं, वजह है कि आरजेडी ने प्रदेश प्रधान महासचिव आलोक मेहता के नेतृत्व में सभी कुशवाहा विधायकों को एक प्रेस कॉन्फ्रेस में नीतीश और केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोलने के लिए आगे किया.

आरजेडी के विधायक सह प्रधान महासचिव आलोक मेहता ने अपने आवास पर आयोजित प्रेस वार्ता में केंद्र सरकार को सबसे पहले निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि सरकार एक ही एजेंडे पर लगी है डिसइन्वेस्टमेंट. अपनी जिम्मेदारी से मुँह मोड़ने में लगी है. मोदी सरकार में रेलवे, बीमा, एयरलाइंस सब बेचा जा रहा है. जबकि ये सभी नागरिक सुरक्षा के दृष्टिकोण से काफी मायने रखता है. सरकार आम आदमियों को जोर का झटका धीरे धीरे दे रही है.

बिहार को बर्बाद करने की योजना!

आलोक मेहता ने कहा कि बिहार की डबल इंजन की सरकार ने विगत वर्ष में जो भी काम किये है वो बिहार को बर्बाद करने की योजना है. पिछले दिनों किसान आंदोलन में भी कोई सुनवाई नहीं हुई. इन कृषि कानूनों से किसान का नहीं पूंजीपतियों का भला होगा. बीजेपी और तमाम पार्टी दूसरे दलो को धमकाकर अपने साथ बुलाते हैं.

शिक्षा व्यवस्था पर कुशवाहा से सवाल

वहीं, पूर्व केंद्रीय मंत्री के जेडीयू में जाने पर आरजेडी महासचिव ने कहा कि पिछले दिनों उपेंद्र कुशवाहा ने तथाकथित घर वापसी की वो एनडीए के गोद मे जा बैठे. जब कुशवाहा जी ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दिया था तो वो खराब शिक्षा व्यवस्था के खिलाफ आवाज उठाते थे. नीतीश कुमार को जड़ से उखाड़ फेकने की बात करते थे. अब जनता कुशवाहा जी से सवाल कर रही है कि क्या अब बिहार में शिक्षा व्यवस्था ठीक हो गयी?

कुशवाहा के राजनीति का समापन

आलोक मेहता ने जदयू के संसदीय दल के अध्यक्ष पर आरोप लगाते हुए कहा कि उपेंद्र कुशवाहा ने अपने समर्थकों को धोखा दिया और इतने दिनों तक भ्रम में रखा. जिस दिन उन्होंने जदयू जॉइन कर लिया उस दिन उनकी राजनीति का समापन था. पहले कुशवाहा जी ये स्पष्ट करे कि वे कृषि कानून का समर्थन करते हैं या विरोध.

कुशवाहा विधायकों का जुटान

आरजेडी के कुशवाहा विधायकों के प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद विधायक बागी कुमार वर्मा, विधायक राजवंशी महतो, विधायक राजेश कुमार भी मौजूद रहे. विधायकों का कहना है कि उपेंद्र कुशवाहा का विजन गलत है. उन्होंने हमारे मंच पर आकर लोगों का विश्वास जीता था और अब धोखा दे दिया. सबकी इच्छा है कि जगदेव बाबू के विचार की सरकार बने और जगदेव बाबू के संरक्षक तो लालू प्रसाद यादव है.

पटना से विशाल भारद्वाज की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here