टीवी जगत के सबसे चर्चित चेहरे और सीरियल रामायण में भगवान राम का किरदार निभाने वाले अरुण गोविल अब सियासी पीच पर बैटिंग करते हुए नजर आयेंगे. राजनीतिक पारी की शुरुआत करते हुए उन्होंने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी का दामन थामा है.

अरुण गोविल बंगाल चुनाव में बीजेपी के लिए में धुआंधार प्रचार करेंगे. ऐसा कहा जा रहा है कि गोविल बंगाल में करीब 100 सभाएं करेंगे. पश्चिम बंगाल में बस कुछ ही दिन बचे हैं. पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह से लेकर जेपी नड्डा की ताबड़तोड़ रैलिया हो रही हैं. ऐसे में अरूण गोविल एक स्टार प्रचारक के रुप में बीजेपी के लिए काम करते हुए नजर आयेंगे.

रामायण से मिली पहचान

अरुण गोविल 90 के दशक में टेलीविजन सीरियल रामायण के जरिए फेमस हुए थे. लॉकडाउन के दौरान रामानंद सागर की 90 के दशक में दिखाई जाने वाली ‘रामायण’ ने फिर से लोगों की यादें ताजा कर दी थी. धार्मिक सीरीयल में भगवान राम का किरदार निभा कर अरुण गोविल की घर-घर में राम के रुप में पहचान बन गई थी.

राम के लिए हो गये थे रिजेक्ट

बता दें कि अरुण गोविल का जन्म उत्तर प्रदेश के मेरठ में हुआ है. एफ. कॉलेज शाहजहांपुर, मेरठ यूनिवर्सिटी से इंजिनियरिंग साइंस की पढ़ाई की. 6 भाई-बहनों में चौथे नंबर पर अरुण ने बताया था, ‘मैंने राम के लिए ऑडिशन दिया था, लेकिन मेकर्स ने रिजेक्ट कर दिया था. उस वक्त उन्हें मेरा काम पसंद नहीं आया था, लेकिन बाद में वे खुद मेरे पास आए और मुझे यह रोल ऑफर किया.

राम के बाद नहीं मिला काम

अरुण गोविल ने बताया था कि, ‘भगवान राम का किरदार करने से मुझे बॉलीवुड में काम नहीं मिला. इसका मुझे अफसोस है, लेकिन बाद मैं मैंने यह महसूस किया कि व्यावसायिक फिल्मों को करने के बाद मुझे वह शोहरत, प्यार और पहचान नहीं मिलती, जो रामायण में भगवान राम की भूमिका निभाने के बाद मुझे मिली है. रामायाण ने जो मुझे दिया वो 100 बॉलीवुड फिल्में भी नहीं दे सकतीं.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here