कोरोना पॉजिटिव महिला की मौत के बाद पड़ोसियों ने बंद किए अपने-अपने दरवाजे, ठेले पर मां का शव लेकर श्मशान पहुंचा बेटा

0
5

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. जहां, दो दिन से होम आइसोलेशन में रह रही 55 वर्षीय कोरोना पॉजिटिव महिला का इलाज के अभाव में रविवार को देहांत हो गया. मौत की सूचना देने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम घर नहीं पहुंची. वहीं, मदद मांगने पर मोहल्ले वालों ने दरवाजे-खिड़कियां बंद कर लिए.

ऐसे हालात में रोते-बिलखते हुए बेटे ने अपनी मां के शव को अकेले ही कफन में लपेटा और ठेले पर लादकर श्मशान घाट पहुंच गया. वहां अकेले ही उसने मां का अंतिम संस्कार किया.  बीते आठ अप्रैल को गोला कस्बे से 55 यात्री बस बुक कर कुंभ स्नान के लिए हरिद्वार गए थे. 16 अप्रैल को वापस लौटने पर कुछ यात्रियों की तबीयत खराब होने पर प्रशासन ने सबकी कोविड जांच कराई तो नौ लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई जिसमें वार्ड संख्या-5 की 55 वर्षीय महिला भी संक्रमित मिलीं.

पड़ोसियों ने बंद कर लिए दरवाजे

डॉक्टरों ने संक्रमित महिला को 14 दिन क्वारंटीन रहने की सलाह दी थी. वह बीते शुक्रवार की शाम से ही होम आइसोलेशन में रह रही थीं. लेकिन इस दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम ने महिला की न ही जांच की और न ही कोई दवा दी. रविवार की सुबह अचानक महिला की तबीयत बिगड़ने लगी. इलाज के लिए कहीं ले जाने से पहले ही उसने दम तोड़ दिया. वहीं, मौत की सूचना पाकर भी स्वास्थ्य विभाग की टीम नहीं पहुंची. हद तो तब हो गई जब  कोरोना केस होने की वजह से मोहल्ले के लोगों ने भी मुंह मोड़ लिया.

बेटे ने अकेले ही किया संस्कार

कहीं से कोई उम्मीद न देख मृतका के बेटे ने ही मास्क व ग्लव्स लगाकर मां को कफन में लपेटा और अकेले ही ठेले पर लादकर गोला स्थित मुक्तिधाम पर पहुंचा. वहां उसने अकेले ही चिता सजाई और मुखाग्नि देकर मां का अंतिम संस्कार कर दिया. अंतिम संस्कार के दौरान भी कोविड प्रोटोकाल के तहत जिम्मेदार विभाग का कोई अधिकारी-कर्मचारी नहीं पहुंचा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here