वाहन चालकों को यातायात नियमों के उल्लंघन से संबंधित चालान 15 दिनों के अंदर मिल जाएगा। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने सड़क सुरक्षा अनुपालन के लिए संशोधित मोटर वाहन कानून, 1989 के तहत नोटिफिकेशन जारी किया है। इसमें कहा गया है कि जिस दिन यातायात नियमों का उल्लंघन किया गया है।

उसके 15 दिनों के भीतर वाहन मालिक को चालान भेज दिया जाएगा। अधिसूचना में कहा गया है कि जिन नियम उल्लंघन का पता चलेगा। उसके सभी सुबूत तब तक संभालकर रखे जाएंगे जब तक चालान का निपटारा नहीं हो जाएगा।

नए कानूनों के तहत यातायात नियमों का पालन कराने के लिए कई इलेक्ट्रानिक उपकरणों को शामिल किया गया है। इनमें स्पीड कैमरा, सीसीटीवी, स्पीड गन, डैशबोर्ड कैमरा, ऑटोमेटिक नंबर प्लेट पहचान या राज्य सरकारों द्वारा स्वीकृत इस तरह के कोई भी अन्य उपकरण प्रमुख हैं। मंत्रालय ने कहा कि अधिसूचना में जिन 132 शहरों के नाम हैं। उनमें 10 लाख से अधिक जनसंख्या वाले शहरों में राज्य सरकारों को इलेक्ट्रानिक उपकरण लगाना होगा। साथ ही इन्हें लगाने में विशेष ध्यान रखना होगा कि ये पूरी क्षमता के साथ काम करें और यात्रियों और यातायात के लिए रुकावट नहीं बनें।

सरकार द्वारा अधिसूचना के अनुसार इलेक्ट्रानिक निगरानी व अनुपालन उपकरण से हासिल फुटेज का उपयोग चालान के रूप में किया जा सकता है। यातायात नियम उल्लंघनों में मुख्य रूप से गति सीमा का पालन नहीं करने, पार्किंग के लिए निर्धारित जगहों से इधर-उधर वाहन खड़ा करने तथा दोपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट नहीं पहनने जैसी गलतियां शामिल की गई हैं।

साथ ही लालबत्ती पार करने, रुकने के निशान का अनुपालन नहीं करने, वाहन चलाते वक्त हाथ में पकड़कर मोबाइल फोन का उपयोग करने, गलत तरीके से ओवरटेक करने ऐसी अन्य गलतियों के लिए भी इलेक्ट्रानिक चालान भेजे जा सकते हैं। अधिसूचना में शामिल शहरों में सबसे अधिक 19 महाराष्ट्र के, 17 उत्तर प्रदेश के, 13 आंध्र प्रदेश और 9 पंजाब के हैं।

Leave a comment

Cancel reply

Your email address will not be published.