0Shares

Bihar Student To Graduate From America : कहते हैं जहां चाह, वहां राह। सफलता हासिल करने का जुनून इंसान एक दिन कामयाबी जरूर दिलाता है। आपने कई बार ऐसी कहानियों के बारे में सुना होगा, जिनमें कोई व्यक्ति अपनी इच्छा, मेहनत और लगन से अपने सपनों को पूरा कर दिखाता है। ऐसी ही एक सच्ची कहानी आप आज इस आर्टिकल में पढ़ने वाले हैं। बिहार की राजधानी पटना जिले के एक छोटे से गांव के रहने वाले महादलित छात्र प्रेम कुमार ने कुछ इसी तरह कामयाबी हासिल की है। इस छात्र को लाफायेट कॉलेज अमेरिका में ग्रेजुएशन में नामांकन मिला है। गोनपुरा गांव फुलवारीशरीफ के रहने वाले प्रेम कुमार को इसके लिए 2.5 करोड़ की डायर फेलोशिप मिली है। इसकी जानकारी डेक्स्टेरिटी ग्लोबल के संस्थापक व सीईओ शरद सागर ने दी है।

प्रेम कुमार किसी अमीर खानदान से नहीं बल्कि एक बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखते हैं। प्रेम कुमार के पिता मजदूरी कर अपने परिवार का पालन-पोषण करते आये हैं।

Bihar Student To Graduate From America

Also Read : 1 lakh For Female Candidates Of UPSC In Bihar : बिहार में यूपीएससी की तैयारी कर रही युवतियों को सरकार देगी एक लाख की आर्थिक सहायता, ऐसे करें अप्लाई

Bihar Student To Graduate From America : प्रतिष्ठित कॉलेज लाफायेट में उसका सिलेक्शन हो गया

ज्ञात हो कि प्रेम कुमार ने अपनी मैट्रिक और इंटर की परीक्षा शोषित समाधान केंद्र दानापुर से पास दी है। प्रेम पिछले चार साल से पटना के एक ग्लोबल संस्थान से जुड़ कर पढ़ाई कर रहा है। संस्थान की तरफ से कुछ दिन पहले उसे जानकारी दी गयी कि अमेरिका के प्रतिष्ठित कॉलेज लाफायेट में उसका सिलेक्शन हो गया है। कॉलेज द्वारा स्नातक की डिग्री हासिल करने के लिए उसे 2.5 करोड़ रुपये की छात्रवृत्ति मिली है। गौरतलब है कि वर्ष 1826 में स्थापित लाफायेट कॉलेज अमेरिका के टॉप 25 कॉलेजों में शामिल है।

प्रेम भारत में ऐसी उपलब्धि हासिल करने वाला पहला महादलित छात्र होगा। वह दुनिया के 6 छात्रों में से एक है, जिसे लाफायेट कॉलेज से प्रतिष्ठित ‘डायर फैलोशिप’ मिलेगी। लाफायेट के अनुसार यह फेलोशिप उन चुनिंदा छात्रों को दी जाती है, जिनमें दुनिया की कठिन से कठिन समस्याओं का समाधान निकालने के लिए आंतरिक प्रेरणा और प्रतिबद्धता हो। प्रेम बिहार के महादलित मुसहर समुदाय से आता है। उसका परिवार बेहद गरीब है। पिता जीतन मांझी दिहाड़ी मजदूरी करते हैं। पांच बहनों में वह इकलौता भाई है। कॉलेज जाने वाला वह अपने परिवार का पहला सदस्य है। इस स्कॉलरशिप के तहत उसके रहने खाने और पढ़ाई का पूरा खर्चा वहन किया जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.