पटनाः बिहार विधानसभा के पांचवें दिन भी वाम दलों के द्वारा प्रदर्शन जारी है. बीते बुधवार को विधानसभा परिषद में वामदलों के साथ सचिवालय थाना प्रभारी द्वारा बदतमीजी की जाने पर गुरुवार को भी वामदलों के विधायकों ने प्रदर्शन किया था. विधायकों ने मांग की है कि सचिवालय थाना प्रभारी को जल्द से जल्द बर्खास्त किया जाये.

वहीं, अगियांव से माले विधायक मनोज मंजिल ने आरोप लगाया कि गरीबों की आवाज को दबाया जा रहा है. गरीबो के मुद्दे के साथ उनके वृद्धजनों के पेंशन के साथ मजाक उड़ाया जा रहा है और सामाज कल्यान मंत्री मदन साहनी ने विधायकों को अपमानित किया है, इसलिए उन्हें बर्खास्त किया जाए.

शराबबंदी के नाम पर हो रही नौटंकी

दूसरी तरफ सीतामढ़ी में शराब माफियाओं ने एक दारोगा की हत्या कर दी, जबकि चौकीदार घायल है. इस तरह की घटना तब हुई है जब बिहार में शराबबंदी लागू है. अगर शराबबंदी लागू है तो शराब से एक दर्जन लोगों की मौत कैसे हो रही है. सरकार शराबबंदी के नाम पर नौटंकी कर रही है.

ये भी पढ़ेंः जनहित सवालों से भाग रहे सीएम नीतीश, मोदी की तरह बन गए हैं तानाशाह! ताकते बढ़ते ही नाक में दम करेगा माले

विधायक ने कहा कि कल एक इंस्पेक्टर विपक्ष के विधायक महबूब आलम के साथ धक्का मुक्की की. इस तरह का व्यवहार बर्दाश्त के काबिल नहीं है उन्हें बर्खास्त किया जाना चाहिए. इस सरकार में मंत्री और संतरी भी विधयाक को अपमानित कर रहे हैं. गरीबों के आवाज को दबाने का काम कर रही है इसको हम कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here