0Shares

Bihar Weather Report : बिहार सहित देश के कई राज्यों मानसून जारी है। लगातार हो रही तेज बारिश की वजह से बिहार के कई जिलों में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। कई जिलों में नदियां उफान पर हैं, जिसके चलते लोग अब चिंता में पड़ने लगे हैं। इसी बीच मौसम विभाग की तरफ से शनिवार, 25 जून के लिए बिहार के 4 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

मिली जानकारी के अनुसार किशनगंज, मधुबनी, अररिया और सुपौल के लिये मौसम विभाग ने येलो अलर्ट जारी किया है। वहीं, 26 जून से 28 जून तक के लिए भी विभिन्न इलाकों को लेकर भी अलर्ट जारी हुआ है। पटना में सुबह से ही बादल घिरे हुए हैं और बारिश की संभावना जताई जा रही है।

Bihar Weather Report

Also Read : Bihar Weather : बिहार के चार जिलों में वज्रपात, आंधी और तेज बारिश का अलर्ट, लोगों को सतर्कता बरतने की सलाह

Bihar Weather Report : बारिश की संभावना जताई गयी

पटना स्थित मौसम विज्ञान केंद्र की मानें तो, मुजफ्फरपुर और वैशाली जिले के कुछ भागों में मेघगर्जन के साथ ही हल्की बारिश हो सकती है। वहीं, दक्षिण बिहार के कैमूर, रोहतास, औरंगाबाद, अरवल, गया, जहानाबाद, नालंदा, शेखपुरा सहित पश्चिम चंपारण जिले में भी हल्की व मध्यम बारिश की संभावना जताई गयी है। इस दौरान कई जगहों पर वज्रपात भी होने का पूर्वानुमान है। विभिन्न जिलों में वज्रपात की आशंका को देखते हुए मौसम विभाग की तरफ से लोगों से सावधानी बरतने की अपील की गई है। अगर कोई व्यक्ति किसी खुले स्थान पर रहे तो वे शीघ्र ही किसी पक्के मकान की शरण लें। ऊंचे पेड़ अथवा बिजली के खंभों से दूर रहें।

वहीं, 26 जून को कटिहार और पूर्णिया में भारी बारिश के आसार हैं। 27 जून को पूर्णिया और कटिहार के साथ किशनगंज में भी भारी बारिश हो सकती है। वहीं, 28 जून को बिहार के पूर्वी और पश्चिमी चंपारण, सीतामढ़ी, शिवहर, मधुबनी, सुपौल, मधेपुरा, अररिया, किशनगंज, पूर्णिया और कटिहार जिलों में एक दो जगहों पर भारी बारिश हो सकती है।

मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार दक्षिणी उत्तर प्रदेश के साथ-साथ झारखंड व उसके आस-पास चक्रवातीय परिसंचरण की स्थिति होने से राज्य के अलग-अलग भागों में बारिश का सिस्टम सक्रिय है। पूरे प्रदेश में पूर्वी और दक्षिण पूर्वी हवा का प्रभाव बना हुआ है. बारिश की वजह से राज्य भर के जिलों में तापमान में गिरावट आई है। पटना में भी बारिश के बाद मौसम सुहाना हो गया है, लेकिन आद्रता बढ़ने से उमस बढ़ी है।

Leave a comment

Your email address will not be published.