बॉलीवुड में नेपोटिज्म एक बड़ा मुद्दा बन चुका है, जो फिल्म इंडस्ट्री में एक लंबे अरसे से चलता आ रहा है. लेकिन पिछले साल सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद जमकर इस मुद्दे पर हुए बवाल के कारण लोग इस पर खुलकर बात करने लगे हैं. लोगों को लगता है कि स्टार किड्स को फिल्म इंडस्ट्री में ज्यादा मौके मिलते हैं और बाहर से आये हुए लोगों को किनारे कर दिया जाता है.

वहीं अब नेपोटिज्म के मुद्दे पर अभिनेता सूरज पंचोली ने भी अपनी बात रखी है और कहा है कि बॉलीवुड में अपनी जगह बनाना हर किसी के लिए मुश्किल है. सूरज पंचोली ने एक न्यूज एजेंसी को दिए इंटरव्यू में नेपोटिज्म के मुद्दे पर कहा कि, ‘मैं यह नहीं कहूंगा कि यह किसी के लिए आसान है. केवल बेहतर और सबसे अच्छा इंसान ही इंडस्ट्री में टीका रहेगा, बाकी नहीं टिक पाएंगे. यह अच्छे परिवार के सबसे अच्छे लोगों के साथ हुआ है. कभी-कभी मुझे गुस्सा आता है क्योंकि लोग सोचते हैं कि आप कड़ी मेहनत नहीं करते हैं.’

सोशल मीडिया से निपटना कठिन

सूरज आगे कहते हैं, ‘फिल्म इंडस्ट्री सबके लिए एक समान नहीं है. फिल्म इंडस्ट्री में कुछ परिवार के लोग ही इसे नापसंद करते है. इसलिए यह बहुत मुश्किल है. सोशल मीडिया ने इसे संभाल लिया है. हर कोई अब एक आलोचक है और नफरत एक सेकेंड में फैल सकती है. स्टार किड्स के लिए सोशल मीडिया के युग में नफरत से निपटने एक अतिरिक्त चुनौती है.’

ये भी पढ़ेंः अभिनेत्री प्राची देसाई ने बॉलीवुड की एक-एक कर खोल दी पोल, राजनीति के भ्रष्टाचार की तरह है इंडस्ट्री में नेपोटिज्म…

सूरज को एक्शन फिल्में हैं पसंद

आदित्य पंचोली के बेटे सूरज पंचोली ने अपनी फिल्मों और रोल्स को लेकर कहा कि, ‘मुझे एक्शन जॉनर पसंद है और मुझे एक्शन फिल्में करना ही पसंद है. मैंने खास तौर पर उसके लिए ट्रेनिंग ली है. लेकिन ओटीटी प्लेटफॉर्म के जरिए मैं हर तरह के किरदार करना चाहता हूं. मैं सीरियस ड्रामा से लेकर निगेटिव रोल भी करना चाहता हूं. मैं सिर्फ एक एक्शन हीरो बनकर नहीं रहना चाहता.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here