छपराः किशनगंज में तैनात छपरा निवासी BSF जवान राहुल कुमार सिंह (उम्र 30 वर्ष) की संदिग्ध परिस्थिति में गोली लगने से मौत होने के बाद आज उनका अंतिम संस्कार किया गया. जैसे ही उसका शव एकमा के आमडाढ़ी गांव पहुंचा तो इलाके में मातम छा गया.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

जवान को श्रद्धांजलि देने सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल भी देर शाम गांव पहुंचे थे. सोमवार की सुबह सैन्य सम्मान के साथ एकमा पुलिस अंचल के मांझी थाना क्षेत्र के सरयू नदी स्थित डुमाईगढ घाट तक अंतिम यात्रा निकाली गई. इस दौरान युवाओं व ग्रामीणों ने ‘जबतक सूरज-चांद रहेगा, भोला तेरा नाम रहेगा’, भोला भैया अमर रहें, शहीद जवान अमर रहे, राहुल अमर रहे, जय हिंद, भारत माता की जय, वंदे मातरम के साथ नारे लगाए.

नारों से गूज उठा इलाका

डुमाईगढ घाट पर BSF जवान को सम्मान के साथ गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. इस दौरान बीएसएफ अधिकारियों व जवानों ने भारत माता की जय आदि के गगनभेदी नारे लगाए. साथ ही अपने साथी को आखिरी विदाई दी. इस दौरान मार्मिक दृश्य देखने को मिला. वृद्ध पिता भृगुनाथ सिंह ने बड़े पुत्र राहुल की चिता को मुखाग्नि दी.

घर में एक मात्र कमाने वाला था जवान

बता दें कि भृगुनाथ सिंह के पुत्र राहुल की शादी लॉकडाउन के दौरान ही बीते 30 जून को मांझी थाना क्षेत्र के विनोद सिंह की पुत्री रागिनी कुमारी के साथ हुई थी. आठ भाई-बहनों में सबसे बड़े राहुल एक मात्र कमाने वाले थे. सभी बहनों की शादी हो चुकी है जबकि सभी तीन भाइयों की शादी होनी बाकी है.

दरअसल, भारत-बांग्लादेश सीमा पर किशनगंज में तैनात बीएसएफ जवान राहुल कुमार सिंह (30) अज्ञात कारणों से बीते 14 दिसंबर गोली लगने से गंभीर रुप से घायल हो गया था. गंभीर रुप से घायल होने के बाद उन्हें कोलकाता में भर्ती कराया गया था, जहां शुक्रवार को मौत हो गई.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here