Buddha Circuit Road : हमारे देश में महात्मा बुद्ध से जुड़े कई स्थल मौजूद हैं। सरकार इन जगहों पर पर्यटन को बढ़ाना देने के मकसद से बुद्ध सर्किट का निर्माण कर रही है। इस योजना के अनुसार महात्मा बुद्ध से जुड़े सभी पर्यटन स्थल बेहतर सड़क नेटवर्क से जुड़ जायेंगे। इस सर्किट से जुड़ी सड़कों पर आगामी 2025 तक आवागमन शुरू होने की उम्मीद है।

मिली जानकारी के अनुसार इस सर्किट के तहत पांच सड़कों का निर्माण हो रहा है। इनमें पटना-गया-डोभी रोड, आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे, पटना रिंग रोड में रामनगर से कच्ची दरगाह, दरियापुर-मानिकपुर-साहेबगंज, अरेराज-बेतिया सड़क सहित गया-हिसुआ-राजगीर-नालंदा-बिहारशरीफ सड़कें शामिल है।

Buddha Circuit Road

Also Read : Sabhyata Dwar Patna : अद्भुत शांति का अहसास कराता है बिहार में गंगा किनारे बसा सभ्यता द्वार

Buddha Circuit Road : भगवान बुद्ध से संबंधित मुख्य स्थलों तक पहुंचना काफी सरल

जानकारी के लिये बता दें कि इन सड़कों के जरिये बिहार में स्थित भगवान बुद्ध से संबंधित मुख्य स्थलों तक पहुंचना काफी सरल हो जायेगा। साथ ही साथ इस योजना से राज्य में पर्यटन के क्षेत्र में काफी विकास भी होगा। गौरतलब है कि फिलहालर राज्य में मुख्य बौद्ध स्थल बोधगया, नालंदा, राजगीर, वैशाली और केसरिया हैं। इस बुद्ध सर्किट का जुड़ाव उत्तर प्रदेश के बुद्ध सर्किट से भी होगा। उत्तर प्रदेश के बुद्ध सर्किट के तहत सारनाथ, श्रावस्ती, कुशीनगर, कौशांबी और कपिलवस्तु मुख्य रूप से जुड़ेंगे।

पटना-गया-डोभी फोरलेन राष्ट्रीय राजमार्ग-83 सड़क का निर्माण लगभग 127 किलोमिटर लंबाई में करीब 1,610 करोड़ रूपये की लागत से मार्च 2023 तक पूरा होने का अनुमान लगाया गया है। वहीं राष्ट्रीय राजमार्ग-119डी आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे का निर्माण लगभग 198 किलोमिटर लंबाई में करीब 6.927 करोड़ रूपये का व्यय कर 2024 तक पूरा होने की संभावना है। इसके साथ ही लगभग 13 किलोमिटर की लंबाई में पंटना रिंग रोड मेंरामनगर से कच्ची दरगाह तक फोरलेन सड़क निर्माण के लिये डीपीआर तैयार किया जा रहा है।

इसके अलावा राष्ट्रीय राजमार्ग 139डब्ल्यू दरियापुर-मानिकपुर-साहेबगंज-अरेराज-बेतिया फोरलेन सड़क लगभग 167 किलोमिटर लंबाई में बनाने के लिये भी डीपीआर बनाया जा रहा है। दोनों सड़कों का निर्माण इसी साल शुरू होने और साल 2025 तक पूरे कर लेने की उम्मीद है। साथ ही पथ निर्माण विभाग ने करीब 93 किलोमिटर लंबाई मेंफोरलेन गया-हिसुआ-राजगीर-नालंदा-बिहारशरीफ सड़क राष्ट्रीय राजमार्ग-82 का निर्माण दिसंबर 2022 तक पूरा होने की संभावनी बताई है।

Leave a comment

Your email address will not be published.