CDAC In Bihar : समय के साथ साथ लोग और उनके काम करने का तरीका भी बदल रहा है। अब हर तरह की सुविधा उपलब्ध है। पहले जो काम करने के लिए लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ता था, वही काम अब ऑनलाइन के माध्यम से घर बैठे मिनटों में हो जाता हैं। डिजिटल युग में अधिकांश काम ऑनलाइन हो रहे हैं। खासकर के छात्रों और अन्य सरकारी कार्यालयों के कार्यों में डिजिटल टेक्नोलॉजी का सहारा लिया जा रहा है। ऐसे में बिहार सरकार ने फैसला लिया है कि देश में सबसे पहले सुपर कंप्यूटर बनाने वाले सीडैक का केंद्र बिहार में खोला जाएगा।

CDAC In Bihar

CDAC In Bihar : सेंटर की स्थापना के लिए 65 करोड़ 55 लाख रुपये की मंजूरी दी गई

गौरतलब है कि पटना में यह 14वां सेंटर होगा। सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग की तरफ से इस सेंटर की स्थापना के लिए 65 करोड़ 55 लाख रुपये की मंजूरी दी गई है। सी-डैक, पुणे के सपोर्ट से यह सेंटर स्थापित किया जाएगा। सी-डैक का इस्तेमाल शोध एवं विकास केंद्र के रूप में होगा। इस सेंटर के माध्यम से सभी विभागों के दस्तावेजों की ई-फाइलिंग भी होगी।

मालूम हो कि सी-डैक का मुख्यालय पुणे में है। इसकी शाखाएं, बेंगलुरु, चेन्नई, दिल्ली, हैदराबाद, कोलकाता, मोहाली, मुंबई, नोएडा, जयपुर, तिरुवनंतपुरम, सिलचर एवं इंदौर में है। बता दें कि सी-डैक एक कंपनी है, जो मुख्य रूप से साफ्टवेयर और इलेक्ट्रानिक्स के क्षेत्र में कार्यरत है। इसी ने देश का पहला सुपर कंप्‍यूटर विकसित किया था। पटना में इसका सेंटर स्थापित होने से सरकार के तमाम विभागों को कंप्यूटरीकृत व्यवस्था पर शोध कार्य करने में सहूलियत होगी।

Leave a comment

Your email address will not be published.