पटनाः दिवंगत रामविलास पासवान के बेटे और एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान इन दिनों सुर्खियों में हैं. 2014 में जमुई से सासंद बने चिराग इन दिनों बिहार की सियासत में अकेले दम पर अपनी छाप छोड़ने की कोशिश में हैं. वहीं, जेडीयू अध्यक्ष सूबे के मुखिया नीतीश कुमार को लगातार राजनीति में टक्कर दे रहे हैं.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

वंशवाद की पॉलीटिक्स में चिराग ने खुद को हर कदम पर प्रूफ किया है. चाहे वो 2014 के लोकसभा चुनावों में एनडीए के साथ आना हो या 2019 के आम चुनावों से पहले सीटों का बटवारा. 31 अक्टूबर 1982 को जन्मे चिराग ने कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई करने के बाद फैशन डिजायनिंग में भी अपना हाथ आजमाया था.

सियास से दूर बॉलीबुड में चिराग ने करियर बनाने की कोशिश भी की जिसमें उन्हें नाकामयाबी हासिल हुई. चिराग का पहला प्यार राजनीति नहीं है उन्होंने अपना करियर एक्टिंग में शुरू किया था.

कंगना रनौत के साथ चिराग पासवान
कंगना रनौत के साथ चिराग पासवान

ये भी पढ़ेंः पार्टी टूटी करीबियों ने छोड़ा साथ, अब ‘वन मैन आर्मी’ की तरह विरोधियों को टक्कर दे रहे उपेंद्र कुशवाहा

2011 में मिले ना मिले हम से बॉलीवुड में कदम रखने वाले चिराग को फिल्मी दुनियां में कामयाबी नहीं मिली. पहली फिल्म में चिराग का लुक बहुत कूल था. मिले ना मिले हम के लिए चिराग का नामांकन सुपर स्टार कैटेगरी में स्टारडस्ट अवार्ड के लिए भी हुआ था.

फिल्म चल नहीं पाई और चिराग पासवान के फिल्मी करियर का अंत भी इसी फिल्म के साथ हो गया. जिसके बाद उनके पिता ने सियासत में उनकी इंट्री दिलाई.

ram_vilas_paswan

आइटम सांग में जमकर थिरके चिराग

चिराग की डेब्यू फिल्म ‘मिले ना मिले हम’ को दर्शकों का बेहद ठंडा रिस्पॉन्स मिला था. उस समय यह फिल्म फ्लॉप हो गई थी. हालांकि फिल्म में चिराग के अलावा कंगना रनौत, नीरू बाजवा और सागरिका घटगे जैसी हिरोइन भी थीं फिर भी फिल्म नहीं चली,

हालांकि, फिल्म का एक आइटम सांग कट्टो गिलहरी छमक छल्लो रानी चल पड़ी. इस आइटम सांग में चिराग पासवान श्वेता तिवारी के साथ जमकर थिरकते नजर आए थे.

पिता के स्वास्थ्य को देख सियासत में इंट्री

दलेर मेंहदी और ममता शर्मा के गाए गाने ने उस समय जमकर धमाल मचाया था. इस गाने को हर शादी, पार्टी, बारात में गाना काफी डिमांड में रहते था. इस फिल्म में चिराग और उनकी हिरोइन कंगना रनौत का कमेस्ट्री जबर्दस्त था.

चिराग उस समय ऐक्टिंग को कुछ और समय देना चाहते थे लेकिन पिता के गिरते स्वास्थ्य को देखते हुए उन्होंने फुल टाइम पॉलिटिक्स को अपना लिया और सांसद बन गए. हालांकि, इसके बाद भी कई मौकों पर कंगना को चिराग ने खुल कर समर्थन दिया है.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here