पटनाः बिहार विधानसभा चुनाव में एलजेपी का प्रदर्शन काफी खराब रहा. चिराग के एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ने के फैसले ने उन्हें मात्र 1 सीट पर सिमटा दिया. वहीं, पिता राम विलास पासवान के निधन से खाली पड़े राज्यसभा सीट पर चुनाव हो रहा है. इस सीट पर चिराग अपनी मां को राज्यसभा भेजना चाहते थे. लेकिन बीजेपी ने पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी को अपना कैंडिडेट बनाया है.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

सुशील कुमार मोदी के मुकाबले महागठबंधन ने एलजेपी संस्थापक रामविलास पासवान की पत्नी रीना पासवान को कैंडिडेट बनने का ऑफर किया. तेजस्वी यादव ने रीना पासवान को राज्यसभा भेजने के लिए तानाबाना भी बुना लेकिन इस ऑफर को एलजेपी ने सहजतापूर्वक अस्वीकार कर दिया. हालांकि, इसके लिए एलजेपी ने आरजेडी का आभार भी व्यक्त किया है.

चिराग पासवान
चिराग पासवान

एलजेपी नहीं उतारेगी कैंडिडेट

एलजेपी राज्यसभा चुनाव में अपना उम्मीदवार नहीं उतारेगी. पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर यह जानकारी दी है. आधिकारीक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर कहा गया कि लोक जनशक्ति पार्टी और दलित सेना के संस्थापक आदरणीय राम विलास पासवान जी के निधन के बाद से रिक्त पड़ी राज्यसभा की सीट पर चुनाव है. राज्यसभा की यह सीट संस्थापक के लिए थी जब पार्टी के संस्थापक ही नहीं रहे तो यह सीट बीजेपी किसको देती है यह उनका निर्णय है.

तेजस्वी यादव
तेजस्वी यादव

ये भी पढ़ेंः रीना पासवान की जगह सुशील मोदी बन गए कैंडिडेट तो एलजेपी की तरफ से आ गया बड़ा बयान

चिराग ने खुले रखे सभी दरवाजे

दरअसल, चिराग पासवान ने तेजस्वी के ऑफर को ठुकरा कर बीजेपी की नाराजगी से खुद को बचाया. वहीं, आरजेडी के ऑफर पर आभार व्यक्त कर आगे की सियासत के लिए सभी दरवाजे खुले रखे है. जबकि सुशील मोदी के खिलाफ अपने कैंडिडेट को नहीं उतारने का फैसला कर नीतीश कुमार को भी नाराज होने से बचाया.

Get Daily City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here