एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीच शीत युद्ध का दौर जारी है. दोनों नेताओं के बीच तनातनी खत्म होने का नाम नहीं ले रही है. अब यह लड़ाई सीधे प्रधानमंत्री के दरवाजे तक पहुंच गई है. चिराग पासवान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है.

एक न्यूज चैनल ने दावा किया है कि चिराग पासवान ने अपने पत्र में प्रधानमंत्री को बिहार के ताजा राजनीतिक हालात के बारे में जानकारी दी है. पत्र में कोरोना और बाढ़ के बिहार में पड़ने वाले सियासी प्रभाव की जानकारी दी गई है. बता दें कि कोरोना और बाढ़ से निपटने को लेकर बिहार सरकार की कोशिशों पर चिराग सवाल उठाते रहे हैं. वहीं, प्रशासनिक तौर पर उठाए गए कदमों पर चिराग पासवान लगातार नीतीश कुमार पर सवाल उठाते रहे हैं.

नीतीश पर एलजेपी नेताओं की ‘ना’

बता दें कि 7 सितंबर को लोजपा के बिहार इकाई की संसदीय बोर्ड की बैठक हुई थी. चिराग पासवान ने अपने पत्र में प्रधानमंत्री को इस बैठक के बारे में भी जानकारी दी है. इस बैठक में संसदीय बोर्ड के सभी सदस्यों ने नीतीश कुमार के नेतृत्व में चुनाव नहीं लड़ने की मांग की थी. इन सदस्यों ने कहा था कि बिहार में नीतीश कुमार की लोकप्रियता में कमी आई है जिसका खामियाजा चुनाव में भुगतना पड़ सकता है.

नीतीश कुमार से मुलाकात करते जेपी नड्डा(फाइल फोटो)
         नीतीश कुमार से मुलाकात करते जेपी नड्डा(फाइल फोटो)

16 सितंबर को एलजेपी की बैठक

वहीं, दूसरी तरफ शनिवार को पटना में सीएम नीतीश कुमार और बीजेपी के अध्यक्ष जेपी नड्डा के बीच सीट बंटवारे को लेकर एक बैठक हुई थी. बताया जा रहा है कि बैठक में सीट बंटवारे के प्रारंभिक स्वरूप को लेकर चर्चा हुई थी. जबकि दूसरे तरफ चिराग का पत्र बैठक के मात्र दो दिन बाद ही लिखा गया है. जिससे स्पष्ट है कि नीतीश कुमार को लेकर चिराग पासवान के तेवर में अभी भी कोई बदलाव नहीं हुआ है. 16 सितंबर को चिराग पासवान ने अपने सभी पार्टी सांसदों की बैठक बुलाई है जिसमें इस बात पर भी चर्चा की जाएगी की पार्टी बिहार में 143 सीटों पर चुनाव लड़े या नहीं.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *