दोस्तों आज देश भर में छोटी दिवाली यानी रूप चौदस का त्यौहार हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है.छोटी दिवाली हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, कार्तिक मास कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है.इसी दिन भगवान श्रीकृष्ण ने नरकासुर नामक दैत्य का वध किया था। इस कारण भी इसे नरक चतुर्दशी कहा जाता है।

नरक चतुर्दशी वाले दिन मुख्य दीपक लम्बी आयु और अच्छे स्वास्थ्य के लिए जलता है. इसको यमदेवता के लिए दीपदान कहते हैं. रूप चौदस का सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त
चौघड़िया मुहूर्त
सुबह 06:34 से 07:57 तक- लाभ
सुबह 07:57 से 09:19 तक- अमृत
सुबह 10:42 से दोपहर 12:04 तक- शुभ
दोपहर 02:49 से 04:12 तक- चर
शाम 04:12 से 05:34 तक- लाभ।

नरक चतुर्दशी पर सरसों के तेल का दीपक प्रज्वलित किया जाता है।इस दीपक को अपने घर की परंपरा के अनुसार, द्वार, चौराहे या फिर घर से बाहर अकेले स्थान पर रखा जाता है।

मान्यता के अनुसार रूप चौदस के दिन यमराज की उपासना करने से सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है. इसके साथ ही इस दिन यम के नाम का दीपक प्रज्जवलित करने की भी परंपरा है. मान्यता के अनुसार ऐसा करने से अकाल मृत्यु का भय खत्म हो जाता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.