पटनाः बिहार चुनाव के बाद नव गठित सरकार के सीएम नीतीश कुमार ने बिहार के बड़ा तोहफा दिया. नीतीश सरकार की पहली सार्वजनिक कार्यक्रम में बिहार के पहले और सबसे बड़े एलिवेटेड कॉरिडोर का उद्घाटन किया. पटना के दीघा से एम्स के बीच बने एलिवेटेड कॉरिडोर के उद्घाटन के मौके डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद व रेणु देवी और पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडेय के साथ स्थानीय सांसद रामकृपाल यादव भी मौजूद रहे.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

इस एलिवेटेड पथ के माध्‍यम से दूरी घटेगी और लोगों को यातायात में सहूलियत होगी. एलिवेटेड कॉरिडोर के साथ 106 मीटर लंबा रेल ओवर ब्रिज भी बना है. वहीं, बेली रोड पर नहर के समीप पहले से बने रेल ओवर ब्रिज के कारण इसे उस जगह पर 25 मीटर ऊंचा करना पड़ा है. जबकि पुल निर्माण में इंजीनियरिंग से जुड़ी कई नई तकनीक का इस्तेमाल किया गया है. इसके निर्माण में 1289.25 करोड रुपए की लागत आई है.

ये भी पढ़ेंः विधान परिषद में ‘अनपढ़’ कहे जाने पर छलका राबड़ी देवी का दर्द! लालू जी ने तो…

एलिवेटेड कॉरिडोर के शुरू होने से उत्तर बिहार और दक्षिण बिहार आने-जाने के लिए पटना शहर में बिना इंट्री लिए ही शहर के बाहर से ही निकल सकते हैं. इस कॉरिडोर से वाहन राजधानी में प्रवेश किए बिना बाहर से ही एम्स, नौबतपुर, बिहटा, आरा व औरंगाबाद की ओर निकल जायेंगे. सीएम नीतीश कुमार ने नवंबर 2013 में इसका शिलान्यास किया था. हालांकि, अक्टूबर 2016 की जगह समस्‍याओं के कारण में 3 की जगह 7 साल लग गए.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here