पटनाः अरुणाचल प्रदेश में जदयू विधायकों को अपनी पार्टी में शामिल कराकर बीजेपी ने गहरा जख्म दिया है. इस पर मुख्य विपक्षी पार्टी आरजेडी खूब मजे ले रही है. हालांकि, कांग्रेस ने अपने पुराने सहयोगी को फिर से साथ आने का ऑफर दिया है.

सोमवार को कांग्रेस ने नीतीश कुमार को महागठबंधन में आने का न्योता दे दिया. बिहार विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने कहा है कि नीतीश कुमार को तय करना होगा कि उन्हें क्या करना है, क्या नहीं करना है. अजीत शर्मा ने कहा कि अगर वो चाहें तो हमारे साथ आ सकते हैं, वो पहले भी साथ थे. उनका हमेशा स्वागत है.

बीजेपी-जेडीयू में मतभेद

जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक के बाद नीतीश कुमार ने स्पष्ट करते हुए कहा कि उनकी सीएम बनने की ईच्छा नहीं थी. बीजेपी के आग्रह पर उन्होंने यह पद संभाला है. उनके बयान से स्पष्ट हो गया कि अंदरखाने में बीजेपी-जेडीयू के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है.

ये भी पढ़ेंः बीजेपी-जेडीयू में चल रही भीतरखाने जंग के बीच नीतीश के समर्थन में उतरे सुशील मोदी, कही बड़ी बात

वहीं, जेडीयू के नये नवेले राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने सीधा कह दिया कि अब किसी को पीठ पर छूरा घोंपने नहीं दिया जाएगा. उनका साफ इशारा अरुणाचल प्रदेश में जेडीयू के साथ विश्वासघात को लेकर बीजेपी की तरफ था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here