कोरोना के बेकाबू होते रफ्तार ने शादी के रंग में भंग डाला है. शादी से पहले और शादी के बाद कई दुल्हे अपना जान गंवा चुके हैं. हापुड़ जिले के गढ़ नगर में भी एक ऐसा ही मामला सामने आया है. युवक ने कोरोना के बढ़ते केस को देख कर कहा था कि अभी शादी नहीं करनी है  क्योंकि बारात में कोरोना के चलते मेरे दोस्त नहीं जा पाएंगे. परंतु वह यह शादी वाले दिन ही चल बसा. युवक की मौत से दो परिवारों में कोहराम मच गया है.

हापुड़ के गढ़ नगर की दुर्गा कालोनी निवासी व्यापारी विजय का बेटा ऋषभ करीब 10 दिन पहले बीमार हो गया था. कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया. तीन दिन पहले रिकवर होने के साथ ही उसको डॉक्टर ने घर भेज दिया था. जिसमें ऑक्सीजन के लिए सवा लाख रुपये का दिल्ली से एक यंत्र भी परिवार वाले खरीद लाए थे.

इलाज के दौरान हुई मौत

परंतु रात को ही घर आने के बाद उसकी तबीयत खराब हो गई. जिसके बाद उसको फिर से अस्पताल लेकर पिरजन पहुंचे. परंतु हालत गंभीर होने के कारण उसकी आक्सीजन कम हो रही है. पिरजनों ने बताया कि रात हालत ठीक हुई तो डॉक्टर ने कहा कि जल्द ठीक करके घर भेजेंगे. लेकिन रात को 2 बजे उसने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया.

ये भी पढ़ेः पिता के बाद कोरोना संक्रमण से मां की मौत, गांव समाज के लोगों ने भी मोड़ लिया मुंह, पैसे के अभाव में पीपीई किट पहन कर बेटी किया शव को दफन

भाई गौरव बताता है कि अप्रैल में रिश्ता हो गया था. जिसकी शादी 8 मई की तय हो गई थी. वह बताता है कि रिश्ते के बाद अचानक कोरोना के केस बढ़ गए तो ऋषभ ने कहा था कि पापा 8 मई को शादी नहीं करनी. क्योंकि अब शादी में मेरे दोस्त नहीं जा पाएंगे. लेकिन उसको क्या पता था कि 8 मई को तो कोरोना उसको हमेशा के लिए ले जाएगा. दूसरी तरफ जिस लड़की से शादी होना था उसका रो-रो कर बुरा हाल है. वह-बार-बार बेहोश होती रही.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here