हजारीबाग में कोरोना की वजह से एक मौत ने सबको हिला कर रख दिया है. जिले के मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के हुटपा निवासी कृष्णा महतो ने अपने पुत्र अनिल की शादी 28 अप्रैल 2021 को टाटीझरिया के झरपो निवासी कांसी महतो की पुत्री के साथ बड़े धूमधाम से की थी. लेकिन एक सप्ताहके भीतर ही कोरोना ने जिंदगी लील कर दी.

ग्रामीणों के ममुताबिक विवाह के दो दिन पूर्व दूल्हे को हल्का बुखार व जुकाम आया इसकी अनदेखी कर परिजन विवाह की तैयारी में जुटे रहे और दोनों पक्ष के लोग पूरे धूमधाम से विवाह में शामिल हुए. विवाह के बाद दूल्हे की तबीयत बिगड़ गई. 4 मई को सांस लेने में परेशानी होने पर आनन-फानन में उसे मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया.

किसी ने नहीं सुनी गुहार

मृतक के भाई धीरज पुरी ने बीमार भाई अनिल की जान बचाने के लिए सदर हॉस्पिटल हजारीबाग में वेंटिलेटर के लिए उपायुक्त,एसडीओ,सांसद ऑफिस,विधायक प्रतिनिधि से गुहार लगाई. बावजूद इसके प्रशासन व जनप्रतिनिधियों पर इसका जरा भी न असर पड़ा और कहीं से मरीज को मदद नहीं मिला. ऑक्सीजन की कमी से उसकी मौत हो गई.

अचानक ऑक्सीजन बंद करने का आरोप

परिजन का आरोप है कि हॉस्पिटल स्टाफ ने अचानक ऑक्सीजन बंद कर दिया जिसकी वजह से मरीज ने दम तोड़ दिया. सिविल सर्जन को सूचना दी गयी कि ऑक्सीजन बन्द हो गया है वो बोले कि सुपरिटेंडेंट से बात करो जब उनको कॉल लगाया गया तब उनका मोबाइल ऑफ आ रहा था. दोबारा कॉल करने के बाद सिविल सर्जन ने स्टाफ भेजा और वेंटिलेटर नहीं चलने की बात कह कर मरीज को घर ले जाने की बात कही.

ये भी पढ़ेंः मशहुर सितारवादक पिता के निधन के 6 दिन बाद बेटे की भी कोरोना से मौत, संक्रमण की चपेट में पूरा परिवार

मृतक घर का सबसे बड़ा पुत्र था. हुटपा श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार किया गया. नव विवाहित लड़के की मौत की सूचना मिलते ही घर में मातम छा गया परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है. सबसे बुरा हाल तो नई नवेली दुल्हन की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here