पटनाः कोरोना जांच के आंकड़ों में गड़बड़ियों पर बिहार सरकार घिर गई है. वहीं, इस मसले पर विपक्ष ने सरकार को घेरना शुरू कर दिया है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार पर जमकर हमला किया है. तेजस्वी यादव ने कहा कि मैंने पहले ही बिहार में कोरोना घोटाले की भविष्यवाणी की थी. जब हमने घोटाले का डेटा सार्वजनिक किया था तो CM ने हमेशा की तरह नकार दिया.

तेजस्वी यादव का कहना है कि मुख्यमंत्री ने आँकड़े नहीं बदलने पर तीन स्वास्थ्य सचिवों का तबादला कर Anti-gen का वो “अमृत” मंथन किया कि 7 दिनों में प्रतिदिन टेस्ट का आंकड़ा 10 हज़ार से 1 लाख और 25 दिनों में 2 लाख पार करा दिया.

टेस्टिंग में जमकर हुआ हेरफेर

नेता प्रतिपक्ष ने नीतीश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बिहार की आत्माविहीन भ्रष्ट नीतीश सरकार के बस में होता तो कोरोना काल में गरीबों की लाशें बेच बेचकर भी कमाई कर लेती. इंडियन एक्सप्रेस की जाँच में यह साफ हो गया है कि सरकारी दावों के उलट कोरोना टेस्ट हुए ही नहीं और मनगढ़ंत टेस्टिंग दिखा अरबों का हेर-फेर कर दिया.

फर्जी टेस्टिंग में रूपयों का खेल

हमारे द्वारा जमीनी सच्चाई से अवगत कराने के बावजूद CM और स्वास्थ्य मंत्री बड़े अहंकार से दावे करते थे कि बिहार में सही टेस्ट हो रहे हैं. टेस्टिंग के झूठे दावों के पीछे का असली खेल अब सामने आया है कि फर्जी टेस्ट दिखाकर नेताओं और अधिकारियों ने अरबों रुपयों का भारी बंदरबांट किया है.

ये भी पढ़ेंः कोरोना जांच रिपोर्ट में घपला! नाम नंबर से लेकर उम्र में गड़बड़झाला

अहंकारी सरकार और उसके मुखिया ना जनता की सुनते है, ना जनप्रतिनिधियों की और ना विपक्ष की. क,ख,ग,घ के विश्वविख्यात ज्ञाता श्री नीतीश कुमार जी को मैंने विगत अगस्त माह में सदन में सबूत सहित आँकड़े दिए थे लेकिन वो सुनेंगे क्यों? सुनेंगे तो उनका भ्रष्टाचार रुक जाएगा और नुकसान होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here