डीजीपी एसके सिंघल के लपेटे में आ गए पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे, यूं क्राइम को लेकर साधा निशाना

0
9

पटनाः राजधानी पटना में इंडिगो एयरलाइंस के स्टेशन मैनेजर रूपेश सिंह के हत्या ने सरकार को हिला कर रख दिया है. वहीं, पुलिस प्रशासन के कार्यशैली पर सवालिया निशान लग रहा है. हालांकि, पुलिस पर उठ रहे सवाल पर डीजीपी एसके सिंघल ने पूर्व डीजीपी गुप्तेशव्र पांडेय को लपेटे में ले लिया.

Immediately Receive Kuwait Hindi News Updates

शनिवार को डीजीपी एसके सिंघल पटना एसएसपी कार्यालय पहुंचे थे उनके साथ तीन एडीजी स्तर के पुलिस अधिकारी भी मौजूद थे. बिहार डीजीपी ने मीडिया से बातचीत के दौरान दावा किया कि बीते दो-तीन माह की घटनाओं को देखा जाये तो अधिकांश मामलों में 24 से 48 घंटे के बीच घटना के कारणों का खुलासा हुआ है. आरोपितों की गिरफ्तारियां हुई हैं.

छापेमारी कर रही एसटीएफ

डीजीपी ने इस दौरान कहा कि कुछ मामले बहुत उलझे हुए होने के कारण अब तक हल नहीं हो पाये हैं. मगर, इन मामलों में भी देर-सबेर खुलासा कर दिया जायेगा. डीजीपी के पटना एसएसपी कार्यालय में आकर अब तक हुई कार्रवाई की समीक्षा के बाद माना जा रहा है कि पुलिस रूपेश हत्याकांड का खुलासा जल्द कर देगी. बताया जा रहा है कि पुलिस को अहम सुराग लग चुके हैं. एसटीएफ भी कई जगहों पर छापेमारी कर संदिग्धों को उठा रही है.

निशाने पर गुप्तेश्वर पांडे

डीजीपी ने बताया कि मीडिया या अन्य कोई भी लोग हैं जो कहते हैं कि क्राइम का ग्राफ बढ़ गया है. लेकिन मैं डेटा पर बात करता हूं. केवल 2019 में क्राइम का ग्राफ बढ़ा था. इसकी कोई बात नहीं करता. मैंने जब से डीजीपी का पद संभाला है उसकी बात करिये न. इसके अलावा 2019 में क्राइम का ग्राफ क्यों बढ़ा ? इसके बारे में तो कोई बात नहीं करता. अन्य राज्यों के अपेक्षा बिहार में क्राइम का ग्राफ काफी कम है. चाहे वह हत्या, लूट, रेप या फिर कोई अन्य मामले में हो. दरअसल, आकड़ों के जरिए डीजीपी ने पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे को निशाने पर लिया है.

Get Today’s City News Updates

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here